स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

सोमवार, 28 अक्तूबर 2013

chitr par kavita: kundali -sanjiv


चित्र पर कविता: कुंडली
प्रथम पेट पूजा करें
संजीव

तस्वीर



प्रथम पेट पूजा करें, लक्ष्मी-पूजन बाद
मुँह में पानी आ रहा, सोच मिले कब स्वाद
सोच मिले कब स्वाद, भोग पहले खुद खा ले
दास राम का अधिक, राम से यह दिखला दे
कहे 'सलिल' कविराय, न चूकेंगे अवसर हम
बन घोटाला वीर, लगायें भोग खुद प्रथम

pratham pet pooja karen , lakshami poojan baad
munh men pani aa raha, soch mile kab swad
soch mile kab swad, bhog pahle khud khaa le
daas ram ka adhik ram se, yah dikhla de
kahe 'salil' kaviraay, n chookenge avsar hm
ban ghotala veer, lagayen bhog khud pratham
facebook: sahiyta salila / sanjiv verma 'salil'
​​

​​

3 टिप्‍पणियां:

Tripti Singh ने कहा…

Tripti Singh

bahut khoob

kusum thakur ने कहा…

KUSUM THAKUR

WAAH... WAAH...

Shriprakash Shukla yahoogroups.com ने कहा…

Shriprakash Shukla yahoogroups.com

गणपति रूठे से दिखें, यद्यपि बैठे साथ
नहीं खायेंगे भोग हम, माता तेरे साथ
माता तेरे साथ, पोलिसी तेरी ठीक नहीं है
किसी गरीब के घर, तू क्यों नहीं दिखी है
कहें शुकुल कविराय, जहाँ हैं धनपति
जाती केवल वहां, छोड़कर गोबर गणपति

श्रीप्रकाश शुक्ल
--
Web:http://bikhreswar.blogspot.com/