स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

शनिवार, 16 नवंबर 2013

hindi chhand: upendra vajra -sanjiv

छंद सलिला:
उपेन्द्र वज्रा
संजीव
*
इस द्विपदिक मात्रिक छंद के हर पद में क्रमश: जगण तगण जगण २ गुरु अर्थात ११ वर्ण और १७ मात्राएँ होती हैं.
उपेन्द्रवज्रा एक पद = जगण तगण जगण गुरु गुरु = १२१ / २२१ / १२१ / २२
उदाहरण:
१. सरोज तालाब गया नहाया
   सरोद सायास गया बजाया
   न हाथ रोका नत माथ बोला
   तड़ाग झूमा नभ मुस्कुराया
२. हथेलियों ने जुड़ना न सीखा
   हवेलियों ने झुकना न सीखा।
   मिटा दिया है सहसा हवा ने-
   फरेबियों से बचना न सीखा
३. जहाँ-जहाँ फूल खिलें वहाँ ही,
    जहाँ-जहाँ शूल, चुभें वहाँ भी,
   रखें जमा पैर हटा न पाये-
   भले महाकाल हमें मनायें।

5 टिप्‍पणियां:

Dk Nagaich Roshan ने कहा…

Dk Nagaich Roshan

WAAHHHHH.....

anupam srijan... bahut hi sunder chhand rachnaayeN.... badhayi aapko....

shilp kii jaankaari saath me dene ke liye bahut aabhaar, nishchit hi is se ham navoditoN ko laabh milegaa , seekhne me...

sanjiv ने कहा…

dhanyavad. mera pyayas yahee hai ki hindi chhand shastr ko aal kar aap sab tak pahuncha doon kintu pathakon kee kami dekhkar utsah bhang hota hai.

Dk Nagaich Roshan Ji.. ने कहा…

Dk Nagaich Roshan Ji..

aap sahi kah rahe hain ... par nayi peedhi me fir se saahitya ke prati rujhaan badh rahaa hai .. aap dekh hi rahe hain ki FB ke aane ke baad har 3raa vyakti rachnakaaroN kii kataar me hai.. aur bahut hi utsaah se seekhnaa bhi chah rahe hain .. ye ek achchhaa sanket hai...

Vaishali Chaturvedi ने कहा…

Vaishali Chaturvedi

Sanjiv Verma 'salil'ji...

chhand ko aapne itne achchhi prakar se barikiyan samjhate hue abhivyakt kiya hai...seekhne ko mila ..aabhar aapka bahut

sanjiv ने कहा…

वैशाली जी
आपका स्वागत है. पिछले कुछ दिनों में अग्र, अचल, अचल धृति, इंद्रा वज्रा, उपेन्द्र वज्रा छंद रचना विधान और उदाहरणों सहित प्रस्तुत किये हैं. यह क्रम निरंतर चलेगा। यह मेरी आगामी पुस्तक की सामग्री है. पाठकों की कठिनाईयां ज्ञात हों तो उन्हें सुलझाते हुए सरल से सरल रूप में रख सकूंगा।
Sanjiv verma 'Salil'
salil.sanjiv@gmail.com
http://divyanarmada.blogspot.in
facebook: sahiyta salila / sanjiv verma 'salil'