स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

बुधवार, 6 नवंबर 2013

mukatak: sanjiv

मुक्तक सलिला:

संजीव
*
श्री सम्पत को पूजते, सभी झुककर माथ
रिद्धि-सिद्धि पति-हरिप्रिया, सदा सदय हों नाथ
चित्र गुप्त परमात्म का आत्म-आत्म में देख
प्रमुदित 'सलिल' मिला सके ह्रदय नयन मन हाथ
*

1 टिप्पणी:

- manjumahimab8@gmail.com ने कहा…

- manjumahimab8@gmail.com

सुंदर सन्देश देती आपकी शुभकामनाएँ अनुकरणीय हैं..
सादर
मंजु