स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

बुधवार, 13 नवंबर 2013

muktak: sanjiv


मुक्तक :
गहोई
कहो पर उपकार की क्या फसल बोई?

मलिनता क्या ज़िंदगी से तनिक धोई?

सत्य-शिव-सुन्दर 'सलिल' क्या तनिक पाया-

गहो ईश्वर की कृपा तब हो गहोई।।
*
कहो किसका कब सदा होता है कोई?                                                             

कहो किसने कमाई अपनी न खोई?                                                                    

कर्म का औचित्य सोचो फिर करो तुम-                                                                  

कर गहो ईमान तब होगे गहोई।।
*
सफलता कब कहो किसकी हुई गोई?                                                             

श्रम करो तो रहेगी किस्मत न सोई.                                                                    

रास होगी श्वास की जब आस के संग-                                                                    

गहो ईक्षा संतुलित तब हो गहोई।।
*
कर्म माला जतन से क्या कभी पोई?                                                              

आस जाग्रत रख हताशा रखी सोई?                                                                     

आपदा में धैर्य-संयम नहीं खोना- 

गहो ईप्सा नियंत्रित तब हो गहोई।।
*
सफलता अभिमान कर कर सदा रोई.                                                          

विफलता की नष्ट की क्या कभी चोई..

प्रयासों को हुलासों की भेंट दी क्या? 

गहो ईर्ष्या 'सलिल' मत तब हो गहोई
*
(गोई = सखी, ईक्षा = दृष्टि, पोई = पिरोई / गूँथी,
ईप्सा = इच्छा,

​चोई = जलीय खरपतवार)





कोई टिप्पणी नहीं: