स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

मंगलवार, 21 जनवरी 2014



छंद सलिला:
दस मात्रिक दैशिक छंद:
संजीव
*
दस दिशाओं के आधार पर दस मात्रिक छंदों को दैशिक छंद कहा जाता है. विविध मात्रा बाँट से ८९ प्रकार के दैशिक छंद रचे जा सकते हैं.

(अब तक प्रस्तुत छंद: अग्र, अचल, अचल धृति, आर्द्रा, आल्हा, इंद्रा वज्रा, उपेन्द्र वज्रा, कीर्ति, घनाक्षरी, छवि, दीप, दोधक, निधि, प्रेमा, माला, वाणी, शक्तिपूजा, शाला, सार, सुगति/शुभगति, सुजान, हंसी,)
दस मात्रिक दीप छंद

*
दस मात्रक दीप छंद के चरणान्त में ३ लघु १ गुरु १ लघु अर्थात एक नगण गुरु-लघु या लघु सगण लघु या २ लघु १ जगण की मात्रा बाँट होती है.
उदाहरण:
१. दीप दस नित बाल, दे कुचल तम-व्याल
   स्वप्न नित नव पाल, ले 'सलिल' करताल
   हो न तनिक मलाल, विनत रख निज भाल
   दे विकल पल टाल, ले पहन कर-माल

२. हो सड़क-पग-धूल, नाव-नद-नभ कूल
   साथ रख हर बार, जीत- पर मत हार
   अनवरत बढ़ यार, आस कर पतवार
   रख सुदृढ़ निज मूल, फहर नभ पर झूल

३. जहाँ खरपतवार, करो जड़ पर वार
   खड़ी फसल निहार, लुटा जग पर प्यार
   धरा-गगन बहार, सलामत सरकार
   हुआ सजन निसार, भुलाकर सब रार
   =========================== 

कोई टिप्पणी नहीं: