स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

शुक्रवार, 31 जनवरी 2014

chhand salila: ekawali chhand -sanjiv

छंद सलिला:   
एकावली छंद
संजीव
*
(अब तक प्रस्तुत छंद: अग्र, अचल, अचल धृति, आर्द्रा, आल्हा, इंद्रवज्रा, उपेन्द्रवज्रा, एकावली, कीर्ति, घनाक्षरी, छवि, तांडव, तोमर, दीप, दोधक, निधि, प्रेमा, मधुभार ,माला, लीला, वाणी, शक्तिपूजा, शाला, शिव, शुभगति, सार, सुगति, सुजान, हंसी)
*
दस मात्रिक एकावली छंद के हर चरण में ५-५ मात्राओं पर यति होती है.

उदाहरण :

१. नहीं सर झुकाना, नहीं पथ भुलाना
   गिरे को  उठाना, गले से लगाना
   न तन को सजाना, न मन को भुलाना
   न खुद को लुभाना, न धन ही जुटाना

२. हरि भजन कीजिए, नित नमन कीजिए
    निज वतन पूजिए, फ़र्ज़ मत भूलिए
    मरुथली भूमियों को,  चमन कीजिए
   भाव से भीगिए, भक्ति पर रीझिए

३. कर प्रीत, गढ़ रीत / लें जीत मन मीत
    नव गीत नव नीत, मन हार मन जीत
  
    **********

कोई टिप्पणी नहीं: