स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

बुधवार, 22 जनवरी 2014

kavitt: chand bardaaee

कवित्त
तन तेज तरनि ज्यों घनह ओप

http://www.hindubooks.org/sudheer_birodkar/hindu_history/prithvi3.jpg  
रचनाकार: चंदबरदाई
प्रस्तुति: गुड्डो दादी
*
तन तेज तरनि ज्यों घनह ओप .
प्रगटी किरनि धरि अग्नि कोप .
चन्दन सुलेप कस्तूर चित्र .
नभ कमल प्रगटी जनु किरन मित्र.
जनु अग्निं नग छवि तन विसाल .
रसना कि बैठी जनु भ्रमर व्याल .
मर्दन कपूर छबि अंग हंति .
सिर रची जानि बिभूति पंति .
कज्जल सुरेष रच नेन संति .
सूत उरग कमल जनु कोर पंति.
चंदन सुचित्र रूचि भाल रेष.
रजगन प्रकास तें अरुन भेष .
रोचन लिलाट सुभ मुदित मोद .
रवि बैठी अरुन जनु आनि गोद.
धूसरस भूर बनि बार सीस.
छबि बनी मुकुट जनु जटा ईस.
धमकन्त धरनि इत लत घात.
इक श्वास उड़त उपवनह पात.
विश्शीय चरित ए चंद भट्ट .
हर्षित हुलास मन में अघट्ट (

*
हिंदी कुञ्ज से अनुसरण )

कोई टिप्पणी नहीं: