स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

शुक्रवार, 28 मार्च 2014

gazal: abhishek kumar 'abhi'

एक ग़ज़ल :
—अभिषेक कुमार ''अभी''
(बहर:मुसतफइलुन/मुसतफइलुन/मुफाईलुन/मुफाईलुन)
.
इस ज़िंदगी को, हम यहाँ, अकेले ही गुज़ारे हैं
कोई न आए साथ को, यहाँ जब जब पुकारे हैं
.
हालात ऐसे आज हैं, कि सब, शब में समाए हैं
देखे सहर मुद्दत बिता, सुबह भी निकले तारे हैं
.
कुश्ती मची इक-दूजे में,हराए कौन किसको अब
घूमा नज़र, देखो जहाँ, वहीं दिखते अखाड़े हैं
.
दोनों जहाँ जिसने बनाया, वो भी देख हँसता है
जिन्हें सजाने को कहा, वही इन्हें उजाड़े हैं
.
अब तो सभी पूजे उसे, न दौलत की कमी जिसको
कोई न सुनता उनका अब, 'अभी' जो बे-सहारे हैं

(शब=रात)
.
Is zindgi ko, ham yhan, akele hi guzare hain
Koi n aaye sath ko, yhan jab jab pukare hain
.
Halat aise aaj hen,ki sb, shb me smaye hain
Dekhe sahar muddt bita, subah bhi nikle tare hain
.
Kushti machi ik-duje me, haraye kaun kisko ab
Ghuma nazar, dekho jahan, whin dikhte akhade hain
.
Dono jahan jisne banaya, wo bhi dekh hansta hai
Jinhen sajaane ko k'ha, wahi inhain ujade hain
.
Ab to sabhi pooje use, n daulat ki kami jis ko
Koyi n sunta un ka ab, 'abhi' jo be-sahare hain.
-Abhishek Kumar ''Abhi''
(Shb=Raat)

कोई टिप्पणी नहीं: