स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

मंगलवार, 15 अप्रैल 2014

chitra par kavita: sanjiv

चित्र पर कविता:
संजीव

रिश्तों पे जमीं बर्फ रास आ रही है खूब
गर्मी दिलों की आदमी से जा रही है ऊब
रस्मी बराए-नाम हुई राम-राम अब-
काम-काम सांस जपे जा रही है अब
कुदरत भी परेशान कि जीना मुहाल है
आदमी की आदमीयत पर सवाल है

कोई टिप्पणी नहीं: