स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

गुरुवार, 29 मई 2014

chhand salila: rola chhand -sanjiv



छंद सलिला:   ​​​

रोला  छंद ​

संजीव
*
छंद-लक्षण: जाति अवतारी, चार पद, प्रति चरण दो पद - मात्रा २४ मात्रा, यति ग्यारह तेरह, पदांत गुरु (यगण, मगण, रगण, सगण), विषम पद सम तुकांत, 


लक्षण छंद:

आठ चरण पद चार, ग्यारह-तेरह यति रखें  
आदि जगण तज यार, विषम-अंत गुरु-लघु दिखें  
गुरु-गुरु से सम अंत, जाँचकर रचिए रोला
अद्भुत रस भण्डार, मजा दे ज्यों हिंडोला 

उदाहरण: 

१. सब होंगे संपन्न, रात दिन हँसें-हँसायें 
    कहीं न रहें विपन्न, कीर्ति सुख सब जन पायें 
    भारत बने महान, श्रमी हों सब नर-नारी 
    सद्गुण की हों खान, बनायें बिगड़ी सारी

२. जब बनती है मीत, मोहती तभी सफलता 
    करिये जमकर प्रीत, न लेकिन भुला विफलता 
    पद-मद से रह दूर, जमाये निज जड़ रखिए
    अगर बन गए सूर, विफलता का फल चखिए  
    
३.कोटि-कोटि विद्वान, कहें मानव किंचित डर 
   तुझे बना लें दास, अगर हों हावी तुझपर
   जीव श्रेष्ठ निर्जीव, हेय- सच है यह अंतर 
   'सलिल' मानवी भूल, न हों घातक कम्प्यूटर

टीप: 
रोल के चरणान्त / पदांत में गुरु के स्थान पर दो लघु मात्राएँ ली जा सकती हैं. 
सम चरणान्त या पदांत सैम तुकान्ती हों तो लालित्य बढ़ता है. 
रचना क्रम विषम पद: ४+४+३ या ३+३+२+३ / सम पद ३+२+४+४ या ३+२+३+३+२  
कुछ रोलाकारों ने रोला में २४ मात्री पद और अनियमित गति रखी है.
नविन चतुर्वेदी के अनुसार रोला की बहरें निम्न हैं:
अपना तो है काम छंद  की करना 
फइलातुन फइलात फाइलातुन फइलातुन 
२२२ २२१ = ११ / २१२२ २२२ = १३ 
भाषा का सौंदर्य, सदा सर चढ़कर बोले
फाइलुन मफऊलु / फ़ईलुन फइलुन फइलुन
२२२ २२१ = ११ / १२२ २२ २२ = १३
                       
                         *********  
(अब तक प्रस्तुत छंद: अखण्ड, अग्र, अचल, अचल धृति, अरुण, अवतार, अहीर, आर्द्रा, आल्हा, इंद्रवज्रा, उड़ियाना, उपमान, उपेन्द्रवज्रा, उल्लाला, एकावली, कुकुभ, कज्जल, कामिनीमोहन, काव्य, कीर्ति, कुण्डल, कुडंली, गंग, घनाक्षरी, चौबोला, चंडिका, चंद्रायण, छवि, जग, जाया, तांडव, तोमर, त्रिलोकी, दिक्पाल, दीप, दीपकी, दोधक, दृढ़पद, नित, निधि, निश्चल, प्लवंगम्, प्रतिभा, प्रदोष, प्रभाती, प्रेमा, बाला, भव, भानु, मंजुतिलका, मदनअवतार, मधुभार, मधुमालती, मनहरण घनाक्षरी, मनमोहन, मनोरम, मानव, माली, माया, माला, मोहन, मृदुगति, योग, ऋद्धि, रसामृत, रसाल, राजीव, राधिका, रामा, रूपमाला, रोला, लीला, वस्तुवदनक, वाणी, विरहणी, विशेषिका, शक्तिपूजा, शशिवदना, शाला, शास्त्र, शिव, शुभगति, शोभन, सरस, सार, सारस, सिद्धि, सिंहिका, सुखदा, सुगति, सुजान, सुमित्र, संपदा, हरि, हेमंत, हंसगति, हंसी)

कोई टिप्पणी नहीं: