स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

शनिवार, 2 अगस्त 2014

baal geet: barase paani -sanjiv

बाल गीत:

बरसे पानी

संजीव 'सलिल'
*


रिमझिम रिमझिम बरसे पानी.
आओ, हम कर लें मनमानी.



बड़े नासमझ कहते हमसे
मत भीगो यह है नादानी.



वे क्या जानें बहुतई अच्छा
लगे खेलना हमको पानी.



छाते में छिप नाव बहा ले.
जब तक देख बुलाये नानी.



कितनी सुन्दर धरा लग रही,
जैसे ओढ़े चूनर धानी.



काश कहीं झूला मिल जाता,
सुनते-गाते कजरी-बानी.

'सलिल' बालपन फिर मिल पाये.
बिसराऊँ सब अकल सयानी.

12 टिप्‍पणियां:

'ksantosh_45@yahoo.co.in' ने कहा…

ksantosh_45@yahoo.co.in [ekavita]

आ० सलिल जी
बहुत ही मनभावन सचित्र बाल कविता है..
बाल मन को अवश्य गुदगुदायेगी..
सन्तोषकुमार सिंह

Pranava Bharti ने कहा…

pranavabharti@gmail.com [ekavita]

आ सलिल जी
सुंदर भीनी कविता चित्रों के साथ सजीव हो उठी ।
बहुत सुंदर
साधुवाद
सादर
प्रणव

Ram Gautam gautamrb03@yahoo.com ने कहा…

Ram Gautam gautamrb03@yahoo.com [ekavita]

आ.आचार्य 'सलिल' जी,
प्रणाम:
पहली बारिस में नहाते हुए बच्चे; चित्रात्मक भाव में
बाल- कविता, सुन्दर और मनभावन लगी | आपको
साधुवाद और बधाई !!!!!!
सादर स्नेह - आरजी

sanjiv verma 'salil' ने कहा…

आपका आभार शत-शत.

'Dr.M.C. Gupta' mcgupta44@gmail.com ने कहा…

'Dr.M.C. Gupta' mcgupta44@gmail.com [ekavita]

बहुत सुन्दर है, सलिल जी.

--ख़लिश

achal verma achalkumar44@yahoo.com ने कहा…

achal verma achalkumar44@yahoo.com [ekavita]

सुन्दरे अति सुन्दरम

achal verma achalkumar44@yahoo.com ने कहा…


achal verma achalkumar44@yahoo.com [ekavita]

आ. सलिल जी,
बाल गीत पढकर हम तो एक ब एक अपने उम्र के उस मुकाम पर पहुच गए जिसमे कभी इसी तरह के गीतो की जरूरत थे, और अब जाके ये पूरी हो रही है . ज़ी चाहता है फ़िर से वहीँ लौट चले ।

anand pathak ने कहा…

akpathak317@yahoo.co.in [ekavita]

आ0 सलिल जी
जितना अच्छा आप का बालगीत है उससे कहीं ज़्यादा अच्छा आप की चित्रावली है यह ,कहाँ कहाँ से आप ने संग्रह किया प्रसंशनीय है
भावों के चित्रण से पहले चित्र स्वयं ही बोल रहें
मन की गाँठें खोल रहें हैं

बधाई है आप के इस "चित्र-गीत’ के लिए
सादर

आनन्द पाठक,जयपुर
my blog for GEET-GHAZAL-GEETIKA http://akpathak3107.blogspot.com

my blog for HINDI SATIREs(Vyang)http://akpathak317.blogspot.com my blog for URDU SE HINDI http://urdu-se-hindi.blogspot.com(Mb) 094133 95592

Email akpathak3107@gmail.com

Kusum Vir kusumvir@gmail.com ने कहा…


Kusum Vir kusumvir@gmail.com [ekavita]

आदरणीय आचार्य जी,
कमाल के सुन्दर और सजीव चित्र बटोरे हैं आपने और अति मनोहारी बाल गीत लिखा है l
ढेरों बधाई और सराहना स्वीकार करें l
सादर,
कुसुम

vijay3@comcast.net [ekavita] ने कहा…

vijay3@comcast.net [ekavita]

अति सुन्दर बालगीत। बधाई।

सादर,

विजय निकोर

Shriprakash Shukla ने कहा…

Shriprakash Shukla wgcdrsps@gmail.com [ekavita]

अति सुन्दर आचार्य जी । चित्र और रचना दोनों मनोहारी हैं ।

सादर
श्रीप्रकाश शुक्ल

BLOGPRAHARI ने कहा…

आपका ब्लॉग देखकर अच्छा लगा. अंतरजाल पर हिंदी समृधि के लिए किया जा रहा आपका प्रयास सराहनीय है. कृपया अपने ब्लॉग को “ब्लॉगप्रहरी:एग्रीगेटर व हिंदी सोशल नेटवर्क” से जोड़ कर अधिक से अधिक पाठकों तक पहुचाएं. ब्लॉगप्रहरी भारत का सबसे आधुनिक और सम्पूर्ण ब्लॉग मंच है. ब्लॉगप्रहरी ब्लॉग डायरेक्टरी, माइक्रो ब्लॉग, सोशल नेटवर्क, ब्लॉग रैंकिंग, एग्रीगेटर और ब्लॉग से आमदनी की सुविधाओं के साथ एक सम्पूर्ण मंच प्रदान करता है.
अपने ब्लॉग को ब्लॉगप्रहरी से जोड़ने के लिए, यहाँ क्लिक करें http://www.blogprahari.com/add-your-blog अथवा पंजीयन करें http://www.blogprahari.com/signup .
अतार्जाल पर हिंदी को समृद्ध और सशक्त बनाने की हमारी प्रतिबद्धता आपके सहयोग के बिना पूरी नहीं हो सकती.
मोडरेटर
ब्लॉगप्रहरी नेटवर्क