स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

मंगलवार, 16 सितंबर 2014

muktak: sanjiv

मुक्तक सलिला:
संजीव
*
देश को प्रणाम कीजिए हँसकर
भाषा को नमन कीजिए खिलकर
आशा का कल्पवृक्ष झूमेगा
कोशिश की राह पकड़िए मिलकर
*
देश-गीत गाओ तो धन्य हो
देश-प्रीत पाओ तो धन्य हो
देश-नीत है पुनीत भूल मत
देश-मीत पाओ तो धन्य हो.
*
गगन पर हस्ताक्षर करेंगे हम
पीड़ित का दर्द कम करेंगे हम
श्रम गंगा नहाकर तरेंगे हम
नित नवीन मंज़िलें वरेंगे हम
*
 


कोई टिप्पणी नहीं: