स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

शनिवार, 20 सितंबर 2014

navgeet: sanjiv

नवगीत:
संजीव
*
अजब निबंधन
गज़ब प्रबंधन

नायक मिलते
सैनिक भिड़ते
हाथ मिलें संग
पैर न पड़ते

चिंता करते
फ़िक्र न हरते
कूटनीति का
नाटक मंचन
*
झूले झूला
अँधा-लूला
एक रायफल
इक रमतूला

नेह नदारद
शील दिखाएँ
नाहक करते
आत्म प्रवंचन
*
बिना सिया-सत
अधम सियासत
स्वार्थ सिद्धि को
कहें सदाव्रत

नाम मित्रता
काम अदावत
नैतिकता का
पूर्ण विखंडन
***

4 टिप्‍पणियां:

Mahesh Dewedy mcdewedy@gmail.com ने कहा…

Mahesh Dewedy mcdewedy@gmail.com

संजीव यह तो नवगीत मे भीनवीन है. बधाई.


महेश चंद्र द्विवेदी

Mahesh Dewedy mcdewedy@gmail.com ने कहा…

Mahesh Dewedy mcdewedy@gmail.com

संजीव यह तो नवगीत मे भीनवीन है. बधाई.


महेश चंद्र द्विवेदी

Kusum Vir kusumvir@gmail.com ने कहा…

Kusum Vir kusumvir@gmail.com

आदरणीय आचार्य जी,
आज के राजनीतिक परिप्रेक्ष पर आपने बहुत ही सटीक और यथार्थपरक रचना की है l
अति सुन्दर l
साधुवाद l
सादर,
कुसुम

sanjiv ने कहा…

महेश जी, कुसुम जी
यह नवगीत आपको रुचा, मेरा अहोभाग्य। आभार