स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

बुधवार, 29 अक्तूबर 2014

Indian black money inabroad

विदेशों में भारतीय धन :

कालाधन मामले में सुप्रीम कोर्ट में सरकार ने तीन सीलबंद लिफाफे सौंपे। पहले में विदेशी खाताधारकों के नाम थे। दूसरे में दूसरे देशों के साथ हुई संधि के कागजात थे और तीसरे में जांच की स्टेटस रिपोर्ट थी। सरकार ने सुप्रीम कोर्ट को बताया कि इसमें साल 2006 तक की एंट्री है। इसकी वजह यह है कि स्विस अधिकारियों ने इस बारे में जानकारी देने से यह कहते हुए इनकार कर दिया था कि ये इनपुट्स चोरी की जानकारी के आधार पर हासिल किए गए हैं।
 
अटॉर्नी जनरल मुकुल रोहतगी ने बताया कि खाताधारकों के नामों के साथ इन लोगों के खिलाफ अब तक हुई जांच की स्टेटस रिपोर्ट भी दाखिल की जा रही है। सूत्रों का कहना है कि लिस्ट में एचएसबीसी बैंक के जिनेवा ब्रांच में खाता रखने वाले भारतीयों के नाम हैं, जो भारत सरकार को फ्रांस सरकार की ओर से मिले थे।
 
कालाधन के मामले में 150 देशों की लिस्‍ट में भारत आठवें नंबर पर (2001 से 2010 के बीच)
देश
कालाधन (बिलियन डॉलर में)
(स्रोत: ग्‍लोबल फाइनेंशियल इंटीग्रिटी)
चीन
 
मैक्सिको
 
मलेशिया
 
साउदी अरेबिया
 
रूस
 
फिलिपीन्स
 
नाइजीरिया
 
भारत
 
इंडोनेशिया
 
यूएई(संयुक्त अरब अमीरात)
2,740
 
476
 
285
 
210
 
152
 
138
 
129
 
123
 
109
 
107
 
स्विस बैंक में किस साल कितना पहुंचा भारतीयों का कालाधन
(स्रोत: स्विस नेशनल बैंक )
साल2006  2007 2008  2009  2010 201120122013
रकम (करोड़ रुपए में)414002750015400126001245014000900014000
 
जब्त किया गया कालाधन (स्रोत: मई 2012 में जारी श्वेतपत्र)
साल नगदी जूलरीअन्य संपत्तिकुल (करोड़ रुपए में)
2006-07187.4899.19 77.96 364.64
2007-08 206.35128.0793.39427.82
2008-09339.86 122.1888.19  550.23 
2009-10300.97132.2 530.33963.50
2010-11440.28184.15 150.55774.98
2011-12499.91 271.40   134.30 905.61 

कोई टिप्पणी नहीं: