स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

शनिवार, 25 अक्तूबर 2014

lekh: mahendra ke geeton men navachar: dr. ram sanehi lal sharma 'yayavar'

महेंद्र भटनागर के गीतों में नवाचार


-डा. रामसनेहीलाल शर्मा 'यायावर'

छायावाद-काल में ही कविता में नवता के प्रति आकर्षण --
'' नव गति नव लय ताल छंद नव,
नवल कंठ, नव जलद मन्द्र रव
नव नभ के नव विहग-वृंद को
नव पर नव स्वर दे!''
-- निराला
और काव्य के पारम्परिक प्रतिमानों को तोड़ने की ललक -- (''खुल गये छंद के बंध प्रास के रजत-पाश!'' -- पंत) के स्वर सुनायी पड़ने लगे थे; जिसके परिणाम प्रगतिवाद में सहज और भदेस के प्रति आकर्षण, सर्वहारा व शोषित के प्रति प्रेम व शोषक के प्रति आक्रोश के रूप में सामने आये और प्रयोगवाद में लघु मानव की प्रतिष्ठा, छंद-मुक्त गद्य-कविता की प्रतिष्ठा और वैचारिकता की प्रधानता के रूप में। नयी कविता ने काव्य के सभी प्राचीन बन्धनों और प्रतिमानों को ध्वस्त कर दिया। इसी काल में पाँचवें दशक में छायावादी गीतों की कोमलता, तत्समबहुलता, भाषिक आभिजात्य, शैलीगत मार्दव के प्रति अनाकर्षण जैसे तत्व पनपे। इस कालखंड में दो प्रकार के गीतकार दिखाई पड़े। एक वे जो गीत के पारम्परिक प्रतिमानों -- गहन आत्मानुभूति, छंद की स्वीकृति, लय की सहजता और रागात्मक तत्वों की अभिव्यक्ति के क्षेत्र में थोड़ी छूट लेकर गीत को नवाचार दे रहे थे। इनमें वीरेंद्र मिश्र, शम्भूनाथ सिंह, देवद्रें शर्मा 'इन्द्र', रवीन्द्र 'भ्रमर', उमाकान्त मालवीय आदि जैसे गीतकार थे तो दूसरे वे कवि थे जो मूलतः नयी कविता के साथ जुड़े परन्तु गीत के क्षेत्र में भी उन्होंने नयेपन को अपनाकर नये गीतों का सृजन किया। इस वर्ग में भारतभूषण अग्रवाल, महद्रेंभटनागर, और केदारनाथ सिंह जैसे कवि दिखायी पड़े। नवगीत को आन्दोलन का रूप तो 1955 के आसपास दिया जाने लगा परन्तु उससे पहले के इन दोनों वर्गों के गीतकारों में नवगीत के पूर्वरूप के दर्शन होने लगे थे। नवगीत में प्रकृति, लोकचेतना, मूल्य-क्षरण और जीवनगत विसंगतियों की अभिव्यक्ति के स्वर उसकी काठी को रच रहे थे। उपर्युक्त गीतकारों में इन स्वरों का पूर्वरूप और नयेपन की ललक दिखने लगी थी। महद्रेंभटनागर के गीत नवगीत की भूमिका रचते दिखायी पड़ते हैं।
सन् 1949 से सृजित उनके 50 नवगीत 'जनवादी लेखक संघ', वाराणसी से प्रकाशित 'जनपक्ष' -- 8 (सन् 2010) में प्रकाशित हुए हैं। इन गीतों में जीवन के तप्त स्वर और 'नवता' के प्रति आकर्षण ध्वनित हो रहा है। सम्पादकीय टिप्पणी के अनुसार -- ''महेंद्रभटनागर-विरचित नवगीत विशिष्ट हैं । वे गेय हैं। छंद का बंधन ज़रूर नहीं है। किन्तु वे छंद-मुक्त नहीं हैं। चरणबद्ध हैं। उनमें एक निश्चित मात्रिक-क्रम है। तुकों का व्यवस्थित प्रयोग है। उनके नवगीतों का शिल्प उनका अपना है।''नवगीत के प्रारम्भ से ही प्रकृति के प्रति अपने सहज आकर्षण परन्तु उसके नवरूप की स्वीकृति को स्वीकारा। महेंद्र जी के इन गीतों में 'री हवा', 'हेमन्ती धूप', 'एक रात', 'वर्षा-पूर्व', 'शीतार्द्र', तथा 'हेमन्त' प्रकृति को अपने ढंग से प्रस्तुत करने वाली रचनाएँ हैं । इनमें कहीं हवा यौवन भरी, उन्मादिनी है जिसका आवाहन कवि 'मेघ के टुकड़े लुटाती आ' कहकर कर रहा है। 'खिलखिलाती, रसमयी, जीवनमयी' यह हवा जीवन में उल्लास और जिजीविषा का अथक स्रोत जगाती लगती है। यह तरुण कवि का उल्लासमय नूतन स्वर है। कहीं हेमन्ती धूप मोहिनी है, सुखद है, और कहीं वर्षा-पूर्व --
 ' किसी ने डाल दी तन पर
सलेटी बादलों की रेशमी चादर!
मोह लेती है छटा
मोद देती है घटा
 काली घटा!'
परन्तु इन रचनाओं में कवि अपनी रागात्मक संवेदनाओं से आगे नहीं जा पाता। नवगीत ने आगे चलकर प्रकृति को जिस मानवीकृत और तटस्थ रूप में अपनाया वह 'शीतार्द्र' और 'हेमन्त' में दिखायी पड़ता है। 'शीतार्द्र' में 'कोहरा' कारीगर है, रजनी अध्यक्ष है, और नव-प्रभात डर कर बैठा हुआ है; परन्तु हवा 'उन्मादिनी यौवन भरी' है, 'मोहक गंध से भरी पुरवैया' है। कवि को 'प्रिया-सम' हेमन्ती धूप की गोद में सो जाने की ललक है; क्योंकि वह 'मोहिनी' है। 'वर्षा-पूर्व' में ' हवाओं से लिपट / लहरा उठा / ऊमस भरा वातावरण-आँचर' है। 'हेमन्त' में प्रिया से वह कहता है, 'ऐसे मौसम में चुप क्यों हो / कहो न कोई मन की बात!' ये सारे तत्व छायावाद की प्रणयी प्रवृत्ति के अवशेष हैं। कवि छयावाद के मादक, मोहक प्रभाव से अपने को मुक्त नहीं कर पाया है।
वस्तुतः नवगीत ने जिस जीवन-गति और संघर्ष-चेतना को अपना मूल स्वर बनाया वह उनकी गीति-रचनाओं में 'जीवन : एक अनुभूति', 'अनुदर्शन', 'नियति', 'परिणति', 'नवोन्मेष', 'विराम', 'आग्रह','घटना-चक्र','अकारथ', 'चाह', 'आह्वान', 'दृष्टि', 'परिवर्तन' आदि जैसी रचनाओं में दिखाई पड़ता है। इन रचनाओं में कवि समाज में समता का बीजमंत्र बोने का इच्छुक है। जीवन की विषमताओं, संघर्ष और मूल्य-क्षरण से व्यथित दिखाई पड़ता है। अनास्था के विरुद्ध आस्था का आलोक-स्वर गुँजाना चाहता है। उसे लगता है कि नया युग आ गया है --
मौसम
कितना बदल गया!
सब ओर कि दिखता
नया-नया!
सपना --
जो देखा था
साकार हुआ,
अपने जीवन पर
अपनी क़िस्मत पर
अपना अधिकार हुआ!
समता का
बोया था जो बीज-मंत्र
पनपा,
छतनार हुआ!
सामाजिक-आर्थिक
नयी व्यवस्था का आधार बना!
शोषित-पीड़ित जन-जन जागा,
नवयुग का छविकार बना!
साम्य-भाव के नारों से
नभ-मंडल दहल गया!
मौसम
कितना बदल गया!
('परिवर्तन')
इनमें वह युग-परिवर्तनकारी स्वरों का गायक बना है। इन गीतों में ज़िन्दगी उसे ''धूमकेतन-सी अवांछित, जानकी-सी त्रस्त लांछित, बदरंग कैनवस की तरह, धूल की परतें लपेटे किचकिचाहट से भरी, स्वप्नवत्'' प्रतीत होती है। उसे लगता है कि ''शोर में / चीखती ही रही ज़िन्दगी / हर क़दम पर विवश / कोशिशों में अधिक विवश'' है। उसकी सामूहिक विवशता का स्वर यह है कि ''बंजर धरती की / कँकरीली मिट्टी पर / नूतन जीवन / कैसे बोया जाय!'' जिसकी परिणति यह है कि '' आजन्म / वंचित रह / अभावों ही अभावों में / घिसटती ज़िन्दगी / औचट दहकती यदि / सहज आश्चर्य क्या है?'' परन्तु इस आश्चर्य और विवशता के बीच भी उसे लगता है कि ''ज़िन्दगी / इस तरह / बिखरेगी नहीं /'' भले ही वह ''चीखती / हाफ़ती / ज़िन्दगी / कर चुकी / अनगिनत / ऊर्ध्व ऊँचाइयाँ / गार गहराइयाँ / तय! / थम गया / भोर का / शाम का / गूँजता शोर / गत उम्र की / राह पर / थम गया / एक आह बन / शून्य में / हो गया / लय! /'' वह चाहता है कि ''जीवन अबाधित बहे /'' और ''जय की कहानी कहे!'' और वह शोषित, पीड़ित, दलित, दमित को जगाने वालों, जड़ता को झकझोरने वालों का आह्वान करता है, ''मन से हारो! जागो! तन के मारो! जागो! / जीवन के लहराते सागर में कूदो / ओ गोताखोरो! जड़ता झकझोरो!''
वस्तुतः यही वह मूल स्वर है जिसे आगे चलकर नवगीत ने अपने कथ्य का आधार बनाया। समय के प्रश्नों से टकराने, जड़ता को झकझोरने, नये युग-मूल्यों को गढ़ने, विसंगतियों से टकराने, धुँधलकों को हटाने, विषमता के चक्रव्यूह को तोड़ने और नवयुग के आह्नान का यही स्वर नवगीत का मूल स्वर है; जिसका मंगलाचरण डा. महेंद्रभटनागर की इन रचनाओं में दिखाई पड़ता है।
इसलिए लगता है कि कवि महेंद्र जी जहाँ एक ओर छायावादी कोमलता, मार्दव, वायवी प्रणय चेतना और भाषिक तत्समीयता से बाहर नहीं निकल पा रहे; वहीं इन गीतों से यह भी लगता है कि उसमें इन सबको छोड़ने और जीवन की जटिलताओं से सीधे टकराने का हौसला भी है। वह नवयुग की कीर्ति-कथा भी लिखना चाह रहा है। कहा जा सकता है कि ये गीत संक्रमण काल की मनःस्थितियों के गीत हैं।
गीत के पारम्परिक फार्मेट में छन्द का विशेष महत्त्व है। छन्द ही गीत की लय को नियन्त्रित करने का साधन है। नवगीत के पुरोधा कवि देवेन्द्र शर्मा 'इन्द्र' ने एक गीत में कहा है --
हाँ, हमने गीत के स्वयंवर में
तोड़ी है प्रत्यंचा इंद्र के धनुष की!
अँधियारी लय के कान्तरों में हम
कालजयी आखेटक
आश्रयदाताओं के अभिनन्दन में
झुका नहीं अपना मस्तक
हमने कब मानी है भाषा अंकुश की ...
हमसे ही जीवित है इतिहासों में
एकलव्य की परम्परा,
बँधी नहीं श्लेष, यमक, रूपक में
ऋषि की वाणी ऋतम्भरा,
हमने कब ढोयी है पालकी नहुष की!
यह गीत छन्द के संबंध में लय के संबंध में व नवगीत के कथ्य के संबंध में रचा गया शाश्वत सूत्र है। नवगीतकार छंद, लय और तुक के बन्धन तोड़कर नयी शिल्प-चेतना का वाहक बनता है और आश्रयदाताओं और नहुषों का कीर्ति गान न करके शोषित पीड़ित विजड़ित मानवता के दर्द को अपने गीतों में उकेरता है। इस दिशा में नवगीतकारों में छन्द के बंधन से अपने को पूर्णत: मुक्त तो नहीं किया है; परन्तु वह छन्द के एक चरण को तोड़कर कई पंक्तियों में लिखकर यौगिक छन्द बना कर चरण-संख्या घटा-बढ़ाकर, चरणों में विसंगतियाँ अपना कर, छन्दहीनता अपना कर तथा बृहत् खण्ड-योजना से छन्दात्मकता लाकर छन्द के इस इंद्रधनुष को नयापन देता है। डा. महेंद्रभटनागर के गीतों में लय की स्वीकृति तो है; परन्तु छन्द को उन्होंने लगभग अस्वीकार कर दिया है। उनके गीतों में न तो चरण-योजना है, न ध्रुवपद के साथ तुक-विधान का अनिवार्य सामंजस्य है। उन्होंने छन्दहीनता व छन्द के चरणों में विसंगतियों को अपनाया है। उदाहरणार्थ उनके बहुचर्चित गीत 'री हवा!' को ही देखें --
री हवा !
गीत गाती आ,
सनसनाती आ ;
डालियाँ झकझोरती
रज को उड़ाती आ !
मोहक गंध से भर
प्राण पुरवैया
दूर उस पर्वत-शिखा से
कूदती आ जा !
ओ हवा !
उन्मादिनी यौवन भरी
नूतन हरी इन पत्तियों को
चूमती आ जा !
गुनगुनाती आ,
मेघ के टुकड़े लुटाती आ !
मत्त बेसुध मन
मत्त बेसुध तन !
खिलखिलाती, रसमयी,
जीवनमयी
उर-तार झंकृत
नृत्य करती आ !
री हवा !
(रचना-सन् 1949)
इस गीत का ध्रुवपद 23-23 मात्राओं से बुना गया है; परन्तु प्रथम चरण तीन पंक्तियों में व द्वितीय चरण दो पंक्तियों में लिखा गया है। पारम्परिक ढंग से इसे अगर इस तरह लिख दिया जाय --
री हवा / गीत गाती आ / सनसनाती आ!
डालियाँ झकझोरती / रज को उड़ाती आ!
तो यह 23 मात्रा का मात्रिक छन्द बन जाएगा। पन्तु आगे के अक्षरों में 'मोहक ... पुरवैया' दो पंक्तियों में 20 मात्राएँ हैं और 'दूर उस पर्वत-शिखा से कूदती आ जा!' में 23 मात्राएँ। आगे की पंक्तियों में क्रमशः 5, 19,, 16, 9 मात्राएँ हैं; जो दो पंक्तियों का चरण बनकर प्रस्तुत है। इस तरह छन्द में 24 एवं 25 मात्राएँ हो जाती हैं और समापन चरण में प्रथम पंक्ति में 9 व द्वितीय पंक्ति ('मेघ के टुकड़े लुटाती आ') में 16 मात्राएँ हैं। इस तरह इस गीत की संरचना में मात्रिक स्तर पर पूर्ण विसंगति है; परन्तु विशेषता यह है कि इसके बावजू़द गीत की लय प्रभावित नहीं हुई है। महेंद्र जी के अन्य गीतों में भी यही विशेषता है। वे पारम्परिक छन्द-बन्धन को नहीं मानते। छन्दों को तोड़ते हैं, एक छन्द के एक चरण को कई पंक्तियों में लिखते हैं और चरणों में विसंगति अपनाते हैं। इससे छन्द का इन्द्रधनुष टूटता है। छन्द-भंग होता है; परन्तु लय का उन्होंने ध्यान रखा है। उनके गीतों में गेयता की अपेक्षा वाचिकता अधिक है जो आगे चलकर अनेक नवगीतकारों में भी मिलती है।
वस्तुतः निर्विवाद रूप से डा. महेंद्रभटनागर के गीत नवगीत का पूर्वरूप हैं। ये संक्रमण काल की रचनाएँ हैं जिनमें छायावादी प्रवत्तियों के अवशेष भी हैं और नये युग की गीतधर्मी जनचेतना के स्वर भी इन्हें ऐतिहासिक महत्त्व का बनाते हैं। इनमें अपने युग की भविष्यधर्मी नवगीत चेतना की आहट सुनी जा सकती है।

कोई टिप्पणी नहीं: