स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

बुधवार, 15 अक्तूबर 2014

navgeet: sanjiv

नवगीत:

जो बीता
सो बीता, भूलो
उस पर डालो धूल 

सरहद पर
नूरा कुश्ती है
बगीचों में
झूठा मेल
हमें छलो तुम
तुम्हें छलें हम
खबरों की हो
ठेलमठेल
हम भी-
तुम भी
कसें न
कह दें
कसी गयी है
ढीली चूल 

आम आदमी
क्या कर लेगा?
ताली दे या
गाली देगा
खबर-चित्र
बहसें बेमानी
सौदे ही
रखते हैं मानी                                                                                                                                              हम तुमको
तुम हमको
देकर फूल
चुभाते शूल

******                                                                                                                                                                                                            

कोई टिप्पणी नहीं: