स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

शनिवार, 11 अक्तूबर 2014

navgeet:

नवगीत

बचपन का
अधिकार
उसे दो

याद करो
बीते दिन अपने
देखे सुंदर
मीठे सपने
तनिक न भाये
बेढब नपने

अब अपना
स्वीकार
उसे दो

पानी-लहरें
हवा-उड़ानें
इमली-अमिया
तितली-भँवरे
कुछ नटखटपन
कुछ शरारतें

देखो हँस
मनुहार
उसे दो

इसकी मुट्ठी में
तक़दीरें
यह पल भर में
हरता पीरें
गढ़ता पल-पल
नई नज़ीरें

आओ!
नवल निखार
इसे दो

*** 

कोई टिप्पणी नहीं: