स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

बुधवार, 22 अक्तूबर 2014

navgeet:

नव गीत:

कम लिखता हूँ
अधिक समझना

अक्षर मिलकर
अर्थ गह
शब्द बनें कह बात

शब्द भाव-रस
लय गहें
गीत बनें तब तात

गीत रीत
गह प्रीत की
हर लेते आघात

झूठ बिक रहा
ठिठक निरखना

एक बात
बहु मुखों जा
गहती रूप अनेक

एक प्रश्न के
हल कई
देते बुद्धि-विवेक

कथ्य एक
बहु छंद गह
ले नव छवियाँ छेंक

शिल्प
विविध लख
नहीं अटकना

एक हुलास
उजास एक ही
विविधकारिक दीप

मुक्तामणि बहु
समुद एक ही
अगणित लेकिन सीप

विषम-विसंगत
कर-कर इंगित
चौक डाल दे लीप 

भोग
लगाकर
आप गटकना

***







कोई टिप्पणी नहीं: