स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

बुधवार, 15 अक्तूबर 2014

vimarsh: shabd-arth

विमर्श: शब्द और अर्थ  

मनुष्य अपने मनोभाव अन्य तक पहुँचाने के लिए भाषा का प्रयोग करता है. भाषा सार्थक शब्दों का समुच्चय होती है. 

शब्दों के समुचित प्रयोग हेतु बनाये गए नियमों का संकलन व्याकरण कहा जाता है. भाषा जड़ नहीं चेतन होती है. यह देश-काल-परिस्थिति जनित उपादेयता के निकष पर खरी होने पर ही संजीवित होती है. इसलिए देश-काल-परिस्थिति के अनुसार शब्दों के अर्थ बदलते भी हैं. 

एक शब्द है 'जात' या उससे व्युत्पन्न 'जाति'। बुंदेलखंड में कोई भला दिखने वाला निम्न हरकत करे तो कहा जाता है 'जात दिखा गया' जात = असलियत, सच्चाई।  'जात  न पूछो साधु की पूछ लीजिए ज्ञान' अर्थात साधु से उसकी असलियत क्या पूछना? उसका ज्ञान ही उसकी सच्चाई है. जात से ही जा कर्म = जन्म देना = गर्भ में गुप्त सचाई को सामने लाना, जातक-कथा = विविध जीवों के रूप में जन्में बोधिसत्व का सच उद्घाटित करती कथाएं आदि शब्द-प्रयोग अस्तित्व में आये। जाति शब्द को जातिवाद तक सीमित करने से वह सामाजिक बुराई का प्रतीक हो गया. हम चर्चाकारों की भी एक जाति है.  

आचार और विचार दोनों सत्य हैं. विचार मन का सत्य है आचार तन का सत्य है. एक रोचक प्रसंग याद आ रहा है. मेरी माता जी मैनपुरी उत्तर प्रदेश से विवाह पश्चात जबलपुर आईं. पिताजी उस समय नागपुर में जेलर पदस्थ थे. माँ ने एक सिपाही की शिकायत पिताजी से की कि उसने गलत बात कही. पूछने पर बहुत संकोच से बताया की उसने 'बाई जी' कहा. पिताजी ने विस्मित होकर पूछा कि गलत क्या कहा? अब माँ चकराईं कि नव विवाहित पत्नी के अपमान में पति को गलत क्यों नहीं लग रहा? बार-बार पूछने पर बता सकीं कि 'बाई जी' तो 'कोठेवालियाँ' होती हैं 'ग्रहस्थिनें' नहीं। सुनकर पिता जी हँस पड़े और समझाया कि महाराष्ट्र  में 'बाई जी'' का अर्थ सम्मानित महिला है. यह नवाबी संस्कृति और लोकसंस्कृति में 'बाई' शब्द के भिन्नार्थों के कारण हुआ. मैंने बाई का  प्रयोग माँ, बड़ी बहन के लिये भी होते देखा है.

आचार्य रजनीश की किताब 'सम्भोग से समाधि' के शीर्षक को पढ़कर ही लोगों ने नाक-भौं सिकोड़कर उन पर अश्लीलता का आरोप लगा दिया जबकि उस पुस्तक में कुछ भी आपत्तिजनक नहीं था. 'सम्भोग'  सृष्टि का मूलतत्व  है. 

सम = समान, बराबरी से (टके सेर भाजी, टके सेर खाजा वाली समानता नहीं), भोग = आनंद प्राप्त करना। जब किन्हीं लोगों द्वारा सामूहिक रूप से मिल-जुलकर आनंद प्राप्त किया जाए तो वह सम्भोग होगा। दावत, पर्व, कविसम्मेलन, बारात, मेले, कक्षा, कथा, वार्ता, फेसबुक चर्चा आदि  में  सम भोग  ही  होता है किन्तु इस शब्द को देह तक सीमित कर दिये जाने ने समस्या  खड़ी कर दी. हम-आप इस विमर्श में सैम भोगी हैं तो इसमें किसी को क्या आपत्ति हो सकती है? गृहस्थ जीवन में हर सुख-दुःख को सामान भाव से झेलते पति-पत्नी सम्भोग कर रहे होते हैं. इसमें लज्जा की कोई बात नहीं है. संतानोत्पत्ति अथवा आनंदानुभूति हेतु की गयी यौन क्रीड़ा में भी दोनों समभागी होने के कारन सम्भोग करते कहे जाते हैं किन्तु इससे शब्द केवल अर्थ तक सीमिता मान लिया जाना गलत है.  

तात्पर्य यह कि शब्दों का प्रयोग किये जाते समय सिर्फ किताबी- वैचारिक पक्ष नहीं सामाजिक-व्यवहारिक पक्ष भी देखना होता है. रचनाकार को तो अपने पाठक वर्ग का भी ध्यान रखना होता है ताकि उसके शब्दों से वही अर्थ पाठक तक पहुँचे जो वह पहुँचाना चाहता है. 

इस सन्दर्भ में आप भी अपनी बात कहें 

कोई टिप्पणी नहीं: