स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

बुधवार, 5 नवंबर 2014

mukatak

मुक्तक:

अगर हो दोस्ती बेहद तो हद का काम ही क्या है?
करी सर हद न गर सरहद  पे, तो फिर नाम ही क्या है?
बिना बीमा कहाँ सीमा?, करे सर सरफ़रोशी तो
न सोचे सर की हद के उस तरफ अंजाम भी क्या है??
*

कोई टिप्पणी नहीं: