स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

शुक्रवार, 7 नवंबर 2014

muktak:

मुक्तक:

हमको फ़ख़्र आप पर है, हारिए हिम्मत नहीं 
दूरियाँ दिल में नहीं, हम एक हैं रखिये यकीं 
ज़िन्दगी ज़द्दोज़हद है, जीतना ही है हमें 
ख़त्म कर सब फासले, हम एक होंगे है यकीं 

hamko fakhra aap par hai, harie himmat naheen 
dooriyan dil men naheen, ham ek hain rakhiye yakeen  
zindgi zaddozahad hai, jeetna hee hai hamen 
khatm kar sab faasale, ham ek honge hai yakeen 
*

कोई टिप्पणी नहीं: