स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

शनिवार, 22 नवंबर 2014

navgeet:

नवगीत:


तरस मत खाओ
अभी भी बहुत दम है

झाड़ कचरा, तोड़ टहनी, बीन पाती
कसेंड़ी ले पोखरे पर नहा, जल लाती
फूँकती चूल्हा कमर का धनु बनाती
धुआँ-खाँसी से न डरती
आँख नम है 

बुढ़ाई काया मगर है हौसला बाकी
एक आलू संग चाँवल एक मुट्ठी भर
तोड़ टहनी फूँक चूल्हा पकाये काकी
खिला सकती है तुम्हें 
ममता न कम है

***


कोई टिप्पणी नहीं: