स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

गुरुवार, 11 दिसंबर 2014

साहित्य अकादमी द्वारा विविध-विधाओं के राष्ट्रीय-प्रादेशिक पुरस्कार घोषित

31 हजार का हरिकृष्ण प्रेमी पुरस्कार दिव्य नर्मदा के संस्थापक सदस्य श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव-जबलपुर की नाट्य कृति  'हिंदोस्तां हमारा' को

भोपाल : गुरूवार, दिसम्बर 11, 2014, 17:24 IST
 
साहित्य अकादमी, मध्यप्रदेश संस्कृति परिषद् भोपाल द्वारा विभिन्न विधा में प्रकाशित श्रेष्ठ कृतियों के लिए वर्ष 2011 एंव 2012 के पुरस्कार की घोषणा कर दी गई है।
अखिल भारतीय स्तर के पुरस्कार में 10 लेखक के लिए 51 हजार के मान से 51 लाख, प्रादेशिक पुरस्कार में 17 लेखक के लिए 31 हजार के मान से 5.27 लाख और 18 विभिन्न पाण्डुलिपि के लिए प्रति पाण्डुलिपि 10 हजार के मान से 1.80 लाख की राशि दी जायेगी।
अखिल भारतीय पुरस्कारों में वर्ष 2011 माखनलाल चतुर्वेदी पुरस्कार के लिये डॉ. प्रभा दीक्षित-कानपुर की कृति 'स्त्री अस्मिता के सवाल', मुक्तिबोध पुरस्कार के लिये डॉ. बीना बुदकी-जम्मू की कृति 'शरणार्थी', वीरसिंह देव पुरस्कार के लिये श्री अशोक जमनानी-होशंगाबाद की कृति 'खम्मा', रामचंद्र शुक्ल पुरस्कार के लिये डॉ.प्रमोद शर्मा-नागपुर की कृति 'समकालीन कविता का समीकरण' और भवानी प्रसाद मिश्र पुरस्कार के लिये श्री सुरेश शुक्ल-लखनऊ की कृति 'गंगा से ग्लोमा तक' चयनित हुई हैं।
वर्ष 2012 के अखिल भारतीय माखनलाल चतुर्वेदी पुरस्कार के लिये डॉ. रामेश्वर पाण्डेय-रीवा की कृति 'उत्तर आधुनिक तथा अन्य निबंध', मुक्तिबोध पुरस्कार के लिये श्री बाबूराम त्रिपाठी-वाराणसी की कृति 'एक सुबह और मिल जाती', वीरसिंह देव पुरस्कार के लिये श्रीमती स्नेह ठाकुर की कृति 'कैकेयी', रामचंद्र शुक्ल पुरस्कार के लिये श्री कृष्ण मुरारी मिश्रा की कृति 'आद्य बिम्ब और साहित्यालोचन' और भवानी प्रसाद मिश्र पुरस्कार श्री चंद्रसेन विराट-इंदौर की कृति 'ओ, गीत के गरूड़' अखिल भारतीय पुरस्कार के लिये चयनित हुई हैं।
वर्ष 2011 के प्रादेशिक पुरस्कारों में पं. बालकृष्ण शर्मा 'नवीन' पुरस्कार के लिये डॉ. देवेन्द्र दीपक-भोपाल की कृति 'संत रविदास की राम कहानी', सुभद्रा कुमारी चौहान पुरस्कार के लिये श्री मधुर कुलश्रेष्ठ-गुना 'अनंत की तलाश में', श्रीकृष्ण सरल पुरस्कार के लिये डॉ. प्रेम भारती-भोपाल की कृति 'निबंध देह गंध', नंददुलारे वाजपेयी पुरस्कार के लिये डॉ. आरती दुबे-भोपाल की कृति 'हिन्दी के श्रेष्ठ गीत समीक्षक' और हरिकृष्ण प्रेमी पुरस्कार के लिये कोई कृति पुरस्कार योग्य नहीं पाई गई। इसी श्रेणी में राजेन्द्र अनुरागी पुरस्कार के लिये डॉ. कान्ति कुमार जैन-सागर की कृति 'बैकुंठपुर में बचपन', दुष्यंत कुमार पुरस्कार के लिये श्री बसंत सकरगाए-भोपाल की कृति 'निगहबानी में फूल', ईसुरी पुरस्कार के लिये श्री अनूप अशेष-सतना की कृति 'दोपहर' और जहूर बख्श के लिये पुरस्कार सुश्री अल्पना शर्मा-भोपाल की कृति 'खिलौनों की खुशबू' का चयन किया गया है।
वर्ष 2012 के प्रादेशिक पुरस्कारों में पं. बालकृष्ण शर्मा 'नवीन' पुरस्कार के लिये सुश्री शरद सिंह-सागर की कृति 'कस्बाई सिमोन', सुभद्रा कुमारी चौहान पुरस्कार के लिये सुश्री पद्मा शर्मा-शिवपुरी की कृति 'जल समाधि एवं अन्य कहानियाँ', श्रीकृष्ण सरल पुरस्कार के लिये डॉ. अनामिका तिवारी-जबलपुर की कृति 'बूँद', नंददुलारे वाजपेयी पुरस्कार के लिये प्रो. बी.एल. आच्छा-उज्जैन की कृति 'आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी के उपन्यास', हरिकृष्ण प्रेमी पुरस्कार के लिये श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव-जबलपुर की कृति 'हिंदोस्तां हमारा', राजेन्द्र अनुरागी पुरस्कार के लिये डॉ. लक्ष्मीनारायण शोभन-गुना की कृति 'कही अनकही', दुष्यंत कुमार पुरस्कार के लिये श्री मनोहर मनु-नरसिंहगढ़ की कृति 'आँचल गीला हो जाएगा', ईसुरी पुरस्कार के लिये डॉ. जगदीश प्रसाद रावत की कृति 'जगदीश्वर की चौकड़ियाँ' को दिया जायेगा। 'जहूर बख्श' पुरस्कार श्रेणी में कोई कृति पुरस्कार योग्य नहीं पाई गई।
वर्ष 2011 एवं 2012 में प्रदेश के लेखक की पहली कृति की प्रकाशन योजना में 'मैं भारत हूँ' श्री लोकेन्द्र सिंह राजपूत-ग्वालियर, 'पूजा के पुष्प' श्री राकेश सिंहासने-बालाघाट, 'समझ के दायरे में' श्री भुवनेश्वर उपाध्याय-सेवढ़ा, 'अनुगूँज' श्री मनीष श्रीवास्तव-भोपाल, 'खिलता बचपन' श्री अखिल शर्मा-मुरैना, 'नदी की धार सी संवेदनाएँ' श्री रोहित रूसिया-छिन्दवाड़ा, 'मन के मनक' सुश्री द्रोपदी चंदनानी-भोपाल, 'चाहते हैं फिर से' श्री नीलेश कुमार कालभोर-खंडवा, 'जाते हुए पतझड़ को देख कर' डॉ. किशोर सोनवाले लांजी, 'ढेंचू-ढेंचू' श्री आशीष सोनी-नरसिंहपुर, 'शिकवा ईश्वर से' सुश्री कीर्ति झगेकर-भोपाल, 'इंसानी टकसाल' श्री कलीमउद्दीन शेख-इंदौर, 'कहानी संकलन' श्री रामबरन शर्मा-मुरैना, 'नीर-क्षीर' डॉ. साधना बलवटे-भोपाल, 'नारी अस्मिता पर बलिदान-'दामिनी' श्रीमती सीमा निगम-उज्जैन, 'विचार गति' श्री राजू बी आठनेरे-बैतूल, 'कालिदास की सौंदर्य शास्त्रीय शब्दावली का निर्वचन' डॉ. सिद्धार्थ सोमकुंवर-भोपाल और 'बदलते रिश्ते' श्री कैलाश भूरिया-धार की पांडुलिपि प्रकाशन सहायता अनुदान के लिए स्वीकृत हुई हैं।

कोई टिप्पणी नहीं: