स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

मंगलवार, 23 दिसंबर 2014

gazal

ग़ज़ल:
सागर हाशमी
.
माशूक़ से लड़ना भी शामिल है प्यार में
ख़ूब यार से जंग होगी अबकी बहार में

लड़े न हम ख़िज़ाँ में फ़ाज़िल नहीं था वक़्त
गुजरने दूँ बहार क्यों उनके निखार में?

बरसों से बाँध बाँध के मंसूबे रखे हैं
रह जाएँ न पड़े पड़े, जाएँ उधार में

मुस्कान से उसकी न करूँ ख़त्म इब्तिदा
दिल आये न गालों के हलकों की मार में

कैसे-कैसे हाथ दिखाऊँगा मैं उसे
मुआमला न खत्म होने दूँ नकार में
**   

कोई टिप्पणी नहीं: