स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

मंगलवार, 13 जनवरी 2015

navgeet: -naya saal

अंजुमन। उपहार। काव्य संगम। गीत। गौरव ग्राम। गौरवग्रंथदोहे। पुराने अंक संकलन। अभिव्यक्ति। कुण्डलिया। हाइकुहास्य व्यंग्य। क्षणिकाएँ। दिशांतर

नव बरस
सिर्फ सच का साथ देना
नव बरस

धाँधली अब तक चली, अब रोक दे
सुधारों के लिये खुद को झोंक दे
कर रहा मनमानियाँ, गाली बकें-
ऐसा जनप्रतिनिधि गटर में फेंक दे
सेकता जो स्वार्थ रोटी भ्रष्ट हो
सेठ-अफसर को न किंचित टेक दे
टेक का निर्वाह जनगण भी करे
टेक दें घुटने दरिंदे
इस बरस

अँधेरों को भेंट कुछ आलोक दे
दहशतों को दर्द-दुःख दे, शोक दे
बेटियों-बेटों में समता पल सके-
रिश्वती को भाड़ में तू झोंक दे
बंजरों में फसल की उम्मीद बो
प्रयासों के हाथ में साफल्य हो
अनेक रहें नेक, अ-नेक लड़ मरें
जयी हों विश्वास-आस
हँस बरस

संजीव सलिल
२९ दिसंबर २०१४
© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

कोई टिप्पणी नहीं: