स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

शुक्रवार, 2 जनवरी 2015

navgeet:

नवगीत:
संजीव
.
अपनी-अपनी
मर्यादा कर तार-तार
होते प्रसन्न हम
राम बचाये
.
वृद्धाश्रम-बालाश्रम और अनाथालय कुछ तो कहते हैं
महिलाश्रम की सुनो सिसकियाँ आँसू क्यों बहते रहते हैं?
राम-रहीम बीनते कूड़ा रजिया-रधिया झाड़ू थामे
सड़क किनारे बैठे लोटे
बतलाते
कितने विपन्न हम?
राम बचाये
.
अमराई पर चौपालों ने फेंका क्यों तेज़ाब पूछिए?
पनघट ने खलिहानों को क्यों नाहक भेजा जेल बूझिए?
सास-बहू, भौजाई-ननदी, क्यों माँ-बेटी सखी न होतीं?
बेटी-बेटे में अंतर कर
मन से रहते
सदा खिन्न हम
राम बचाये
.
दुश्मन पर कम, करें विपक्षी पर क्यों ज्यादा प्रहार हम?
नगद-बचत की भूल सादगी चमक-दमक वरते उधार हम  
मेले नौटंकी कठपुतली कजरी आल्हा फागें बिसरे
माल जा रहे माल लुटाने,
क्यों न भीड़ से
हुए भिन्न हम?
राम बचाये
.
(३०.१२.२०१४, कटनी, ८.००, दयोदय एक्सप्रेस, बी २ /१७, जयपुर-जबलपुर)

4 टिप्‍पणियां:

Kavita Rawat ने कहा…

चिंतनशील नवगीत प्रस्तुति हेतु आभार!
नव वर्ष की मंगलकामनाएं!

Kailash Sharma Kailash Sharma का प्रोफ़ाइल फ़ोटो kcsharma.sharma@gmail.com New Delhi ने कहा…

Kailash Sharma
kcsharma.sharma@gmail.com
New Delhi

आज के यथार्थ का एक सटीक पर कटु शब्द चित्र...बहुत उत्कृष्ट प्रस्तुति..
सादर

sanjiv ने कहा…

आदरणीय ह्रदय से धन्यवाद। अपने सराहा तो लिखना सार्थक हो गया. भेंट कब हो, यही प्रतीक्षा है.

Govind Johri ने कहा…

Govind Johri
मुझे, Arbind, ARUN, Kumar, Arun, Umesh, Virendra, Trilokee, Kailashpati, Kamal, Charu, Kharecharu, DINESH, MANISH, CA, Govindpsrivast., Rakesh, Brajendra, Amitabh801, Harendra, Rajesh, Sachin, Santosh, bhatnagarkgs, shrivastav.sha.
1. Dear beloved all,
any how for your happiness wishing you and your family the very prosperous, charming flourishing successful year and coming ahead many more years!..........

but once we should think is it right to adopt globally accepted new year and forget our own ultra accuracy having calendar just for some ease !.......

I don't say to discard or disrespect others but don't forget your calendar If you think you know your hindi calendar please mesmerize name of Hindi months just now and if not please purchase a Hindi month calendar right know for correcting your and possible generation mistakes too in future.

please co-operate ......