स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

शुक्रवार, 13 फ़रवरी 2015

muktak: sanjiv

मुक्तक:
संजीव
आशा की कंदील झूलती मिली समय की  शाख पर
जलकर भी देती उजियारा खुश हो खुद को राख कर
नींव न हो तो कलश चमकते कहिए कैसे टिक पायें-
भोजन है स्वादिष्ट परखते 'salil' नॉन को चाख कर 

कोई टिप्पणी नहीं: