स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

गुरुवार, 5 मार्च 2015

kruti charcha: navgeet 2013 - sanjiv

कृति चर्चा :
नवगीत २०१३: रचनाधर्मिता का दस्तावेज
चर्चाकार: आचार्य संजीव वर्मा सलिल
[कृति विवरण: नवगीत २०१३ (प्रतिनिधि नवगीत संकलन)संपादक डॉ. जगदीश व्योमपूर्णिमा बर्मनआकार डिमाईआवरण सजिल्द बहुरंगीपृष्ठ १२ + ११२मूल्य २४५ /प्रकाशक एस. कुमार एंड कं. ३६१३ श्याम नगरदरियागंजदिल्ली २ ]


विश्व वाणी हिंदी के सरस साहित्य कोष की अनुपम निधि नवगीत के विकास हेतु संकल्पित-समर्पित अंतर्जालीय मंच अभिव्यक्ति विश्वं तथा जाल पत्रिका अनुभूति के अंतर्गत संचालित नवगीत की पाठशाला’ ने नवगीतकारों को अभिव्यक्ति और मार्गदर्शन का अनूठा अवसर दिया है. इस मंच से जुड़े ८५ प्रतिनिधि नवगीतकारों के एक-एक प्रतिनिधि नवगीत का चयन नवगीत आंदोलन हेतु समर्पित डॉ. जगदीश व्योम तथा तथा पूर्णिमा बर्मन ने किया है.

इन नवगीतकारों में वर्णमाला क्रमानुसार सर्व श्री अजय गुप्तअजय पाठकअमितअर्बुदा ओहरीअवनीश सिंह चौहानअशोक अंजुमअशोक गीतेअश्वघोषअश्विनी कुमार अलोकओम निश्चलओमप्रकाश तिवारीओमप्रकश सिंहकमला निखुर्पाकमलेश कुमार दीवानकल्पना रमणीकुमार रविन्द्रकृष्ण शलभकृष्णानंद कृष्णकैलाश पचौरीक्षेत्रपाल शर्मागिरिमोहन गुरुगिरीशचंद्र श्रीवास्तवगीता पंडितगौतम राजरिशीचंद्रेश गुप्तजयकृष्ण तुषारस्ग्दिश व्योमजीवन शुक्लत्रिमोहन तरलत्रिलोक सिंह ठकुरेलाधर्मेन्द्र कुमार सिंहनचिकेतानवीन चतुर्वेदीनियति वर्मानिर्मल सिद्धूनिर्मला जोशीनूतन व्यासपूर्णिमा बर्मनप्रभुदयाल श्रीवास्तवप्रवीण पंडितब्रजनाथ श्रीवास्तवभारतेंदु मिश्रभावना सक्सेनामनोज कुमारविजेंद्र एस. विजमहेंद्र भटनागरमहेश सोनीमानोशीमीणा अग्रवालयतीन्द्रनाथ रहीयश मालवीयरचना श्रीवास्तवरजनी भार्गवरविशंकर मिश्रराजेंद्र गौतमराजेंद्र वर्माराणा प्रताप सिंहराधेश्याम बंधुरामकृष्ण द्विवेदी मधुकर’, राममूर्ति सिंह अधीरसंगीता मनरालरामेश्वर काम्बोज हिमांशुरवीन्द्र कुमार रविरूपचंद शास्त्री मयंक’, विद्यानंदन राजीवविमल कुमार हेडावीनस केसरीशंभुशरण मंडलशशि पाधाशारदा मोंगाशास्त्री नित्य गोपाल कटारेसिवाकांत मिश्र विद्रोही’, शेषधर तिवारीश्यामबिहारी सक्सेनाश्याम सखा श्यामश्यामनारायण मिश्रश्रीकांत मिश्र कांत’, संगीता स्वरुपसंजीव गौतमसंजीव वर्मा सलिलl’, सुभाष रायसुरेश पंडाहरिशंकर सक्सेनाहरिहर झाहरीश निगम हैं.

उक्त सूची से स्पष्ट है कि वरिष्ठ तथा कनिष्ठअधिक चर्चित तथा कम चर्चित,   नवगीतकारों का यह  संकलन ३ पीढ़ियों के चिंतनअभिव्यक्तिअवदान तथा गत ३ दशकों में नवगीत के कलेवरभाषिक सामर्थ्यबिम्ब-प्रतीकों में बदलावअलंकार चयन और सर्वाधिक महत्वपूर्ण नवगीत के कथ्य में परिवर्तन के अध्ययन के लिये पर्याप्त सामग्री मुहैया कराता है.  संग्रह का कागजमुद्रणबँधाईआवरण आदि उत्तम है. नवगीतों में रूचि रखनेवाले साहित्यप्रेमी इसे पढ़कर आनंदित होंगे.

शोध छात्रों के लिये इस संकलन में नवगीत की विकास यात्रा तथा परिवर्तन की झलक उपलब्ध है. नवगीतों का चयन सजगतापूर्वक किया गया है. किसी एक नवगीतकार के सकल सृजन अथवा उसके नवगीत संसार के भाव पक्ष या कला पक्ष को किसी एक नवगीत के अनुसार नहीं आँका जा सकता किन्तु विषय की परिचर्या (ट्रीटमेंट ऑफ़ सब्जेक्ट) की दृष्टि से अध्ययन किया जा सकता है. नवगीत चयन का आधार नवगीत की पाठशाला में प्रस्तुति होने के कारण सहभागियों के श्रेष्ठ नवगीत नहीं आ सके हैं. बेहतर होता यदि सहभागियों को एक प्रतिनिधि चुनने का अवसर दिया जाता और उसे पाठशाला में प्रस्तुत कर सम्मिलित किया जा सकता. हर नवगीत  के साथ उसकी विशेषता या खूबी का संकेत नयी कलमों के लिये उपयोगी होता.

संग्रह में नवगीतकारों के चित्रजन्म तिथिडाक-पतेचलभाष क्रमांकई मेल तथा नवगीत संग्रहों के नाम दिये जा सकते तो इसकी उपयोगिता में वृद्धि होती. आदि में नवगीत के उद्भव से अब तक विकासनवगीत के तत्व पर आलेख नई कलमों के मार्गदर्शनार्थ उपयोगी होते. परिशिष्ट में नवगीत पत्रिकाओं तथा अन्य संकलनों की सूची इसे सन्दर्भ ग्रन्थ के रूप में अधिक उपयोगी बनाती तथापि नवगीत पर केन्द्रित प्रथम प्रयास के नाते नवगीत २०१३’ के संपादक द्वय का श्रम साधुवाद का पात्र है. नवगीत वर्तमान स्वरुप में भी यह संकलन हर नवगीत प्रेमी के संकलन में होनी चाहिए. नवगीत की पाठशाला का यह सारस्वत अनुष्ठान स्वागतेय तथा अपने उद्देश्य प्राप्ति में पूर्णरूपेण सफल है. नवगीत एक परिसंवाद के पश्चात अभिव्यक्ति विश्वं की यह बहु उपयोगी प्रस्तुति आगामी प्रकाशन के प्रति न केवल उत्सुकता जगाती है अपितु प्रतीक्षा हेतु प्रेरित भी करती है.       
***


facebook: sahiyta salila / sanjiv verma 'salil' 

कोई टिप्पणी नहीं: