स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

शुक्रवार, 6 मार्च 2015

kruti charcha: pyas ke hiran radheshyam bandhu sanjiv

कृति चर्चा:
प्यास के हिरन : नवगीत की ज्योतित किरण  
चर्चाकार: आचार्य संजीव वर्मा ‘सलिल’ 
[कृति विवरण:प्यास के हिरन, राधेश्याम बंधु, आकार डिमाई, आवरण सजिल्द, बहुरंगी, वर्ष १९९८, पृष्ठ ९४, मूल्य ४०/-, प्रकाशक पराग दिल्ली, नवगीतकार संपर्क:९८६८४४४६६६, rsbandhu2 @gmail.com] 
मानवीय सभ्यता के विकास के साथ ध्वनियों की पहचान, इनमें अन्तर्निहित संवेदनाएँ. इनकी पुनर्प्रस्तुति, इनके विविध संयोजन और उनके अर्थ, संवेदनाओं को व्यक्त करते शब्द, शब्द समुच्चयों के आरोह-अवरोह और उनसे अभिव्यक्त होती भावनायें, छलकती सरसता क्रमशः लोकगीतों का रूप लेती गयी. सुशिक्षित अभिजात्य वर्ग में रचनाओं के विधान निश्चित करने की चेतना ने गीतों और गीतों में छांदस अनुशासन, बिम्ब, प्रतीकों और शब्दावली परिवर्तन की चाह के द्वार पर आ खड़ी हुई है.
नवगीतों और छंदानुशासन को सामान कुशलता से साध सकने की रूचि, सामर्थ्य और कौशल जिन हस्ताक्षरों में है उनमें से एक हैं राधेश्याम बंधु जी. बंधु जी का नवगीत संकलन प्यास के हिरन के नवगीत मंचीय दबावों में अधिकाधिक व्यावसायिक होती जाती काव्याभिव्यक्ति के कुहासे में सांस्कारिक सोद्देश्य रचित नवगीतों की अलख जगाता है. नवगीतों को लोक की अभिव्यक्ति का माध्यम माननेवालों में बंधु जी अग्रणी हैं. वे भाषिक और पिन्गलीय विरासत को अति उदारवाद से दूषित करने को श्रेयस्कर नहीं मानते और पारंपरिक मान्यताओं को नष्ट करने के स्थान पर देश-कालानुरूप अपरिहार्य परिवर्तन कर लोकोपयोगी और लोकरंजनीय बनाने के पथ पर गतिमान हैं. 
बंधु जी के नवगीतों में शब्द-अर्थ की प्रतीति के साथ लय की समन्विति और नादजनित आल्हाद की उपस्थिति और नियति-प्रकृति के साथ अभिन्न होती लोकभावनाओं की अभिव्यक्ति का मणिकांचन सम्मिलन है. ख्यात समीक्षक डॉ. गंगा प्रसाद विमल के अनुसार’ बंधु जी में बडबोलापन नहीं है. उनमें रूपक और उपमाओं के जो नये प्रयोग मिलते हैं उनसे एक विचित्र व्यंग्य उभरता है. वह व्यंग्य जहाँ स्थानिक संबंधों पर प्रहार करता है वहीं वह सम्पूर्ण व्यवस्था की विद्रूपता पर भी बेख़ौफ़ प्रहार करता है. बंधु जी पेशेवर विद्रिही नहीं हैं, वे विसंगत के प्रति अपनी असहमति को धारदार बनानेवाले ऐसे विद्रोही हैं जिसकी चिंता सिर्फ आदमी है और वह आदमी निरंतर युद्धरत है.’
प्यास के हिरन (२३ नवगीत), रिश्तों के समीकरण (२७ नवगीत) तथा जंग जारी है (७ नवगीत) शीर्षक त्रिखंदों में विभक्त यह नवगीत संकलन लोक की असंतुष्टि, निर्वाह करते रहने की प्रवृत्ति और अंततः परिवर्तन हेतु संघर्ष की चाह और जिजीविषा का दस्तावेज है. ये गीति रचनाएँ न तो थोथे आदर्श का जय घोष करती है, न आदर्शहीन वर्तमान के सम्मुख नतमस्तक होती हैं, ये बदलाव की अंधी चाह की मृगतृष्णा में आत्माहुति भी नहीं देतीं अपितु दुर्गन्ध से जूझती अगरुबत्ती की तरह क्रमशः सुलगकर अभीष्ट को इस तरह पाना चाहती हैं कि अवांछित विनाश को टालकर सकल ऊर्जा नवनिर्माण हेतु उपयोग की जा सके.  
बाजों की / बस्ती में, धैर्य का कपोत फँसा / गली-गली अट्टहास, कर रहे बहेलिये, आदमकद / टूटन से, रोज इस तरह जुड़े / सतही समझौतों के प्यार के लिए जिए, उत्तर तो / बहरे हैं, बातूनी प्रश्न, / उँगली पर ठहर गये, पर्वत से दिन, गुजरा / बंजारे सा एक वर्ष और, चंदा तो बाँहों में / बँध गया, किन्तु लुटा धरती का व्याकरण, यह घायल सा मौन / सत्य की पाँखें नोच रहा है,  आदि-आदि पंक्तियों में गीतकार पारिस्थितिक वैषम्य और विडम्बनाओं के शब्द चित्र अंकित करता है.    
साधों के / कन्धों पर लादकर विराम / कब तक तम पियें, नये सूरज के नाम?, ओढ़ेंगे / कब तक हम, अखबारी छाँव?, आश्वासन किस तरह जिए?, चीर हरणवाले / चौराहों पर, मूक हुआ क्यों युग का आचरण?, आश्वासन किस तरह जिए? / नगरों ने गाँव डंस लिये, कल की मुस्कान हेतु / आज की उदासी का नाम ताक न लें?, मैंने तो अर्पण के / सूर्य ही उगाये नित / जाने क्यों द्विविधा की अँधियारी घिर आती, हम उजाले की फसल कैसे उगाये?, अपना ही खलिहान न देता / क्यों मुट्ठी भर धान,  जैसी अभिव्यक्तियाँ जन-मन में उमड़ते उन प्रश्नों को सामने लाती हैं जो वैषम्य के विरोध की मशाल बनकर सुलगते ही नहीं शांत मन को सुलगाकर जन असंतोष का दावानल बनाते हैं.          
जो अभी तक / मौन थे वे शब्द बोलेंगे / हर महाजन की बही का भेद खोलेंगे, धूप बनकर / धुंध में भी साथ दो तो / ज़िन्दगी का व्याकरण कुछ सरल हो जाए, बाबा की अनपढ़ / बखरी में शब्दों का सूरज ला देंगे, अनब्याहे फासले / ममता की फसलों से पाटते चलो, परिचय की / शाखों पर, संशय की अमरबेल मत पालो, मैं विश्वासों को चन्दन कर लूँगा आदि में जन-मन की आशा-आकांक्षा, सपने तथा विश्वास की अभिव्यक्ति है. यह विश्वास ही जनगण को सर्वनाशी विद्रोह से रोककर रचनात्मक परिवर्तन की  ओर उन्मुख करता है. क्रांति की भ्रान्ति पालकर जीती प्रगतिवादी कविता के सर्वथा विपरीत नवगीत की यह भावमुद्रा लोक की, लोक के द्वारा, लोक के लिये सक्षम व्यवस्था का आव्हान करती है. 
बंधु जी के नवगीत सरस श्रृंगार-सलिला में अवगाहन करते हुए मनोरम अभिव्यक्तियों से पाठक का मन मोहने में समर्थ हैं. यादों के / महुआ वन, तन-मन में महक उठे / आओ! हम बाँहों में, गीत-गीत हो जायें, तुम महकते द्वीप की मुस्कान / हम भटकते प्यार के जलयान / क्यों न हम-तुम मिल, छुअन के छंद लिख डालें? क्यों न आदिम गंध से, अनुबंध लिख डालें, आओ, हँ-तुम मिल / प्यार के गुणकों से / रिश्तों के समीकरण, हल कर लें, दालानों की / हँसी खनकती, बाजूबंद हुई / आँगन की अठखेली बोली, नुपुर छंद हुई, चम्पई इशारों से / लिख-लिख अनुबंध / एक गंध सौंप गयी, सौ-सौ सौगंध, खिड़की में /  मौलश्री, फूलों का दीप धरे / कमरे का खालीपन, गंध-गीत से भरे, नयनों में / इन्द्रधनुष, अधरोंपर शाम / किसके स्वागत में ये मौसमी प्रणाम? जैसी मादक-मदिर अभिव्यक्तियाँ किसके मन को न मोह लेंगी? 
बंधु जी का वैशिष्ट्य सहज-सरल भाषा और सटीक शब्दों का प्रयोग है. वे न तो संस्कृतनिष्ठता को आराध्य मानते हैं, न भदेसी शब्दों को ठूँसते हैं, न ही उर्दू या अंग्रेजी के शब्दों की भरमार कर अपनी विद्वता की धाक जमाते हैं. इस प्रवृत्ति के सर्वथा विपरीत बंधु जी नवगीत के कथ्य को उसके अनुकूल शब्द ही नहीं बिम्ब और प्रतीक भी चुनने देते हैं. उनकी उपमाएँ और रूपक अनूठेपन का बना खोजते हुए अस्वाभाविक नहीं होते. धूप-धिया, चितवन की चिट्ठी, याद की मुंडेरी, शतरंजी शब्द, वासंती सरगम, कुहरे की ओढ़नी, रश्मि का प्रेमपत्र आदि कोमल-कान्त अभिव्यक्तियाँ नवगीत को पारंपरिक वीरासा से अलग-थलग कर प्रगतिवादी कविता से जोड़ने के इच्छुक चंद जनों को भले ही नाक-भौं चढ़ाने के लिये  विवश कर दे अधिकाँश सुधि पाठक तो झूम-झूम कर बार-बार इनका आनंद लेंगे. 
नवगीत लेखन में प्रवेश कर रहे मित्रों के लिए यह नवगीत संग्रह पाठ्य पुस्तक की तरह है. हिंदी गीत लेखन में उस्ताद परंपरा का अभाव है, ऐसे संग्रह एक सीमा तक उस अभाव की पूर्ति करने में समर्थ हैं. 

रिश्तों के इन्द्रधनुष, शब्द पत्थर की तरह आदमी की भीड़ में शीर्षक ३ मुक्तिकाएँ (हिंदी गज़लें) तथा आदमी शीर्षक एकमात्र मुक्तक की उपस्थिति चौंकाती है. इसने संग्रह की शोभा नहीं बढ़ती. तमसा के तट पर, मेरा सत्य हिमालय पर नवगीत अन्य सम्मिलित नवगीतों की सामान्य लीक से हटकर हैं. सारतः यह नवगीत संग्रह बंधु जी की सृजन-सामर्थ्य का जीवंत दस्तावेज होने के साथ-साथ आम पाठक के लिये रस की गागर भी है.                                    
***

कोई टिप्पणी नहीं: