स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

गुरुवार, 9 अप्रैल 2015

doha: baans -sanjiv

बाँस
संजीव
.
दोहा:
महल-भवन पल में गिरा, हँसता है भूचाल
बाँस गिरा पाता नहीं, करती लचक कमाल
.
तीसमारखाँ परेशां, गर चुभ जाए फाँस
हर भव-बाधा पार हो, बने सहारा बाँस
.
.

कोई टिप्पणी नहीं: