स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

शनिवार, 18 अप्रैल 2015

doha salila: संजीव

दोहा सलिला:
संजीव
.
फाँसी, गोली, फौज से, देश हुआ आजाद 
लाठी लूटे श्रेय हम, कहाँ करें फरियाद?
.
देश बाँट कुर्सी गही, खादी ने रह मौन 
बेबस लाठी सिसकती, दूर गयी रह मौन 
.
सरहद पर है गडबडी, जमकर हो प्रतिकार 
लालबहादुर बनें हम, घुसकर आयें मार  
.
पाकी ध्वज फहरा रहे, नापाकी खुदगर्ज़ 
कुर्सी का लालच बना, लाइलाज सा मर्ज 
.
दया न कर सर कुचल दो, देशद्रोह है साँप
कफन दफन को तरसता, देख जाय जग काँप
.
पुलक फलक पर जब टिकी, पलक दिखा आकाश 
टिकी जमीं पर कस गये, सुधियों के नव पाश
*

कोई टिप्पणी नहीं: