स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

बुधवार, 15 अप्रैल 2015

doha: sanjiv

खबरदार दोहे
संजीव
.
केर-बेर का सँग ही, करता बंटाढार
हाथ हाथ में ले सभी,  डूबेंगे मँझधार
(समाजवादी एक हुए )
.
खुल ही जाती है सदा, 'सलिल' ढोल की पोल
मत चरित्र या बात में, अपनी रखना झोल
(नेताजी संबंधी नस्तियाँ खुलेंगी)
.
न तो नाम मुमताज़ था, नहीं कब्र है ताज
तेज महालय जब पूजे तभी मिटेगी लाज
(ताज शिव मंदिर है)
.
जयस्तंभ की मंजिलें, सप्तलोक-पर्याय
कलें क़ुतुब मीनार मत,  समझ सत्य-अध्याय
(क़ुतुब मीनार जयस्तंभ है)
.




कोई टिप्पणी नहीं: