स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

मंगलवार, 28 अप्रैल 2015

navgeet: sanjiv

​​
नवगीत:
संजीव 
धरती काँपी,
नभ थर्राया 
महाकाल का नर्तन 
विलग हुए भूखंड तपिश साँसों की 
सही न जाती
भुज भेंटे कंपित हो भूतल  
भू की फटती छाती 
कहाँ भू-सुता मातृ-गोद में 
जा जो पीर मिटा दे 
नहीं रहे नृप जो निज पीड़ा 
सहकर धीर धरा दें
योगिनियाँ बनकर 
इमारतें करें 
चेतना-कर्तन 
धरती काँपी,
नभ थर्राया 
महाकाल का नर्तन 
पवन व्यथित नभ आर्तनाद कर 
आँसू धार बहायें 
देख मौत का तांडव चुप 
पशु-पक्षी धैर्य धरायें 
ध्वंस पीठिका निर्माणों की, 
बना जयी होना है
ममता, संता, सक्षमता के 
बीज अगिन बोना है 
श्वास-आस-विश्वास ले बढ़े 
हास, न बचे विखंडन 
**

कोई टिप्पणी नहीं: