स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

मंगलवार, 19 मई 2015

doha salila: aankh -sanjiv

दोहा सलिला:
दोहा के रंग आँखों के संग ३ 
संजीव 
*
आँख न रखते आँख पर, जो वे खोते दृष्टि 
आँख स्वस्थ्य रखिए सदा, करें स्नेह की वृष्टि
*

मुग्ध आँख पर हो गये, दिल को लुटा महेश 
एक न दो,  लीं तीन तब, मिला महत्त्व अशेष
*
आँख खुली तो पड़ गये, आँखों में बल खूब 
आँख डबडबा रह गयी, अश्रु-धार में डूब 
*
उतरे खून न आँख में,  आँख दिखाना छोड़ 
आँख चुराना भी गलत, फेर न, पर ले मोड़ 
*
धूल आँख में झोंकना, है अक्षम अपराध 
आँख खोल दे समय तो, पूरी हो हर साध 
*
आँख चौंधियाये नहीं, पाकर धन-संपत्ति 
हो विपत्ति कोई छिपी, झेल- न कर आपत्ति 
आँखें पीली-लाल हों,  रहो आँख से दूर 
आँखों का काँटा बनें, तो आँखें हैं सूर 
*
शत्रु  किरकिरी आँख की, छोड़ न कह: 'है दीन'
अवसर पा लेता वही, पल में आँखें छीन 
*
आँख बिछा स्वागत करें,रखें आँख की ओट
आँख पुतलियाँ मानिये, बहू बेटियाँ नोट 
*
आँखों का तारा 'सलिल', अपना भारत देश 
आँख फाड़ देखे जगतं, उन्नति करे विशेष
*

कोई टिप्पणी नहीं: