स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

मंगलवार, 19 मई 2015

doha salila: naak -sanjiv

दोहा सलिला: 
दोहा का रंग नाक के संग 
संजीव 
*
मीन कमल मृग से नयन, शुक जैसी हो नाक 
चंदन तन में आत्म हो, निष्कलंक निष्पाप 
*
आँख कान कर पैर लब, दो-दो करते काम 
नाक शीश मन प्राण को, मिलता जग में नाम 
*
नाक नकेल बिना नहीं, घोड़ा सहे सवार 
बीबी नाक-नकेल बिन, हो सवार कर प्यार 
*
जिसकी दस-दस नाक थीं, उठा न सका पिनाक 
बीच सभा में कट गयी, नाक मिट गयी धाक 
*
नाक-नार दें हौसला, ठुमक पटकती पैर 
ख्वाब दिखा पुचकार लो, 'सलिल' तभी हो खैर 
*
नाक छिनकना छोड़ दें, जहाँ-तहाँ हम-आप 
'सलिल' स्वच्छ भारत बने, मिटे गंदगी शाप 
*
शूर्पणखा की नाक ने, बदल दिया इतिहास
ऊँची थी संत्रास दे, कटी सहा संत्रास 
*
नाक सदा ऊँची रखें, बढ़े मान-सम्मान 
नाक अदाए व्यर्थ जो, उसका हो अपमान 
*
नाक न नीची हो तनिक, करता सब जग फ़िक्र 
नाक कटे तो हो 'सलिल', घर-घर हँसकर ज़िक्र 
*
नाक घुसेड़ें हर जगह, जो वे पाते मात 
नाक अड़ाते बिन वजह, हो जाते कुख्यात 
*
बैठ न पाये नाक पर, मक्खी रखिये ध्यान 
बैठे तो झट दें उड़ा, बने रहें अनजान 
*

कोई टिप्पणी नहीं: