स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

रविवार, 31 मई 2015

dwipadi: sanjiv

द्विपदी सलिला :
संजीव
*
औरों की निगाहों से करूँ, खुद का आकलन 
ऐसा न दिन दिखाना कभी, ईश्वर मुझे.
*
'डूब नजरों में न जाएँ' ये सोच दूर रही
वरना नज़रों के नजारों पे नजर शैदा थी

कोई टिप्पणी नहीं: