स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

बुधवार, 20 मई 2015

muktika: sanjiv

मुक्तिका:
संजीव
*
चल जब-तब परदेश को, अपना यही जुनून
गुड मोर्निंग करिए कहीं, कहीं आफ्टर नून
*
गर्मी की तारीफ में पढ़ा कसीदा एक
'भर्ता खाने के लिये, भटा धूप में भून'
*
दिल्ली में हो रहा है मर्यादा का खून 
खून मत जला देखकर पहुँच देहरादून 
*
आम आदमी बन लड़े कल जो आम चुनाव
आज हुए  सबसे  बड़े वे  ही अफलातून 
*
उपयोगी हो ठंड में,  स्वेटर बुन ले आज 
ले ले जितना मन कहे, सूर्य-किरण का ऊन 
*

कोई टिप्पणी नहीं: