स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

मंगलवार, 9 जून 2015

dwipadi: aansu -sanjiv

द्विपदियाँ (शे'र)
संजीव
*
आँसू का क्या, आ जाते हैं 
किसका इन पर जोर चला है?
*
आँसू वह दौलत है याराँ
जिसको लूट न सके जमाना
*
बहे आँसू मगर इस इश्क ने नही छोड़ा
दिल जलाया तो बने तिल ने दिल ही लूट लिया 
*

कोई टिप्पणी नहीं: