स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

मंगलवार, 9 जून 2015

dwipadi

द्विपदी :
संजीव
*
लाये मुझे पिलाने पर खुद ही पी रहे हैं 
बोतल दिखा के बोले 'बिन पिए जी रहे हैं.
*
बनाये हैं रेत के महल मैंने अब मुझे भूकंप का कुछ डर नहीं
कद्र जज्बातों की जग में हो न हो उड़ न जायेंगे कि उनके पर नहीं
*

कोई टिप्पणी नहीं: