स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

मंगलवार, 9 जून 2015

muktak: aansu -sanjiv

मुक्तक:
संजीव
*
आँसू-नहाओ तो 
दिल में बसाओ तो
कंकर से शंकर हो 
सर पर चढ़ाओ तो
*
आँसू नहीं नियम बंधन हैं  
आँसू नहीं प्रलय संगम हैं 
आँसू ममता स्नेह प्रेम हैं-
आँसू नहीं चरण-चुम्बन हैं 
*
आँसू ये अगड़े हैं, किंचित न पिछड़े हैं 
गीतों के मुखड़े हैं, दुनिया के दुखड़े हैं 
शबनम के कतरे हैं, कविता की सतरें हैं 
ग़ज़लों की बहरें हैं, सागर से गहरे हैं 
*
चंद पल आँसू बहाकर भूल जाते हैं 
गलत है आरोप, हम गंगा नहाते हैं 
श्राद्ध करते ले ह्रदय के भाव अँजुरी में- 
चादरें सुधियों की चुप मन में तहाते हैं 
शक न उल्फत पर हुआ विश्वास पर शक आपको.
हौसलों पर शक नहीं है, ख्वाब पर शक आपको..
त्रास को करते पराजित, प्रयासों का साथ दे-
आँसुओं पर है भरोसा, हास पर शक आपको..
*

कोई टिप्पणी नहीं: