स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

बुधवार, 24 जून 2015

muktika: sanjiv

मुक्तिका :
संजीव 
*
बीज बना करते हैं जो वे फसल न होते 
अपने काटें बात अगर तो दखल न होते  
*
जो विराट कहते खुद को वामन हो जाते 
शक्ल दिखानेवाले रिश्ते असल न होते   
*
हर मुश्किल को हँस अपने सर पर लेते हैं 
मदद गैर की करनेवाले निबल न होते 
*
जवां हौसला रखनेवाले हार न मानें 
शेर वही होते हैं नज़्मों-ग़ज़ल न होते
*
रीत गढ़ा करते हैं जो वे नकल न होते 
शीश हथेली पर धरते जो नसल न होते
*

कोई टिप्पणी नहीं: