स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

बुधवार, 17 जून 2015

navgeet: bela -sanjiv

नवगीत:
बेला महका 
संजीव 
*
जाने किस बेला में 
बेला बहका था?
ला, बे ला झट तोड़ 
मोह कह चहका था.
*
कमसिन कलियों की कुड़माई सुइयों से 
मैका छूटा, मिलीं सासरे गुइयों से 
खिल-खिल करतीं, लिपट-लिपट बन-सज वेणी 
बेला दे संरक्षण स्नेहिल भइयों से 
बेलावल का मन  
महुआ सा महका था 
जाने किस बेला में 
बेला बहका था?
*
जाने किस बेला से बेला टकरायी 
कौन बता पाये ऊँचाई-गहराई 
आब मोतिया जुही, चमेली, चंपा सी 
सुलभा संग सितांग करे हँस पहुनाई 
बेलन सँग बेलनी कि
मौसम दहका था.  
जाने किस बेला में 
बेला बहका था?
*
बेल न बेली, बेलन रखकर चल बाहर  
दूर बहुत हैं घर से सच बाबुल नाहर 
चंद्र-चंद्रिका सम सिंगार करें हम-तुम 
अलबेली ढाई आखर की है चादर   
अरुणिम गालों पर 
पलाश ही लहका था.  
जाने किस बेला में 
बेला बहका था?
*
टीप: बेला = मोगरा, मोतिया, सितांग, सुलभा, / = समय, अंतराल, / = बेलना क्रिया,/  = तट, तीर, किनारा, / = तरंग, लहर, / = कांसे का कटोरा जैसा  बर्तन, बेलावल = प्रिय, पति,

कोई टिप्पणी नहीं: