स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

बुधवार, 17 जून 2015

navgeet: bela -sanjiv

नवगीत:
संजीव
*
आइये!
बेला बनें हम
खुशबुएँ कुछ बाँट दें
*
अंकुरित हो जड़ जमायें
रीति-नीति करें ग्रहण.
पल्लवित हो प्रथाओं को
समझ करिए आचरण.
कली कोमल स्वप्न अनगिन
नियम-संयम-अनुकरण
पुष्प हो जग करें सुरभित
सत्य का कर अनुसरण.
देख खरपतवार
करे दें दूर,
कंटक छाँट दें.
खुशबुएँ कुछ बाँट दें.
*
अंधड़ों का भय नहीं कुछ
आजमाता-मोड़ता.
जो उगाता-सींचता है
वही आकर तोड़ता.
सुई चुभाता है ह्रदय में
गूँथ धागों में निठुर
हार-वेणी बना पहने
सुखा देता, छोड़ता.
कहो क्या हम
मना कर दें?
मन न करता डांट दें.
खुशबुएँ कुछ बाँट दें.
*
जिंदगी की क्यारियों में
हम खिलें बन मोगरा.
स्नेह-सुरभित करें जग को
वही आकर तोड़ता.
सुई चुभाता है ह्रदय में
गूँथ धागों में निठुर
हार-वेणी बना पहने
सुखा देता, छोड़ता.
कहो क्या हम
मना कर दें?
मन न करता डांट दें.
आइये!
बेला बनें हम
खुशबुएँ कुछ बाँट दें
*

   

कोई टिप्पणी नहीं: