स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

बुधवार, 1 जुलाई 2015

doha: sanjiv

दोहा सलिला:
संजीव
*
रचना निज आनंद हित, करिये रहकर मौन
सृजन हीन होता नहीं, श्रेष्ठ हुआ कब कौन?
*
जग में जितने ढोल हैं, बाहर से सब गोल
जो जितना ज्यादा बड़ा, उतनी ज्यादा पोल
*
जो सब से पीछे खड़ा, हो आगे तत्काल
'पीछे मुड़' के हुक्म से, होता यही कमाल
*
पहुँच विदेशों में करें, जो जाहिर मतभेद
नाक काटकर देश की, नाहक है हर खेद
*
बहुमत जब करता गलत, उचित न हो परिणाम
सही अल्प मत उपेक्षित, अगर- विधाता वाम
*
मौलिकता के निकष पर, अगर हाजिरी श्रेष्ठ
गुणवत्ता को भूलिए, हो कनिष्ठ ही ज्येष्ठ
*
मनमानी के लिये क्यों, व्यर्थ खोजिए ढाल?
मनचाही कर लीजिए, खुद हुजूर तत्काल
*

कोई टिप्पणी नहीं: