स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

गुरुवार, 9 जुलाई 2015

muktak

एक मुक्तक:
संजीव 
*
चलो गुनगुनायें सुहाने तराने 
सुनें कुछ सुनायें, मिलो तो फ़साने 
बहुत हो गये अब न हो दूर यारब 
उठो! मत बनाओ बहाने पुराने  
*

कोई टिप्पणी नहीं: