स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

गुरुवार, 13 अगस्त 2015

पुरस्कार समाचार

अभिव्यक्ति: 
ओमप्रकाश तिवारी तथा आचार्य संजीव वर्मा 'सलिल' पुरस्कृत 
सभी पाठकों को स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभ कामनाएँ। स्वतंत्रता दिवस का यह दिन अभिव्यक्ति के लिये भी विशेष है क्यों कि १५ अगस्त २०१५ को अभिव्यक्ति अपने जीवन के १५ साल पूरे कर के १६वें में प्रवेश कर रही है। वर्ष २००० में १५ अगस्त को इसका पहला अंक प्रकाशित हुआ था। यों तो इसका जन्म दिसंबर १९९६ में जियोसिटीज पर हो चुका था लेकिन हिंदी फांट के अभाव और इंटरनेट पर हिंदी सपोर्ट न होने के कारण इसे यह रूप लेते लेते वर्ष २००० का समय आ गया, और तब से आज तक यह नियमित रूप से प्रकाशित हो रही है कभी भी कोई अंक स्थगित या संयुक्त नहीं बना। इसकी इस निरंतर गति में हमारी टीम, हमारे पाठकों और लेखकों का महत्वपूर्ण योगदान है जिसके लिये हम सभी के प्रति हार्दिक आभार व्यक्त करते हैं। आशा है आपका यह स्नेह और सौहार्द आगे भी बना रहेगा।
नवांकुर पुरस्कार
स्वतंत्रता दिवस का दिन अभिव्यक्ति विश्वम से जुड़े नवगीत रचनाकारों के योगदान को रेखांकित करने के लिये नवांकुर पुरस्कारों की घोषणा का भी है। यह पुरस्कार प्रतिवर्ष उस रचनाकार के पहले नवगीत-संग्रह की पांडुलिपि को दिया जाता है, जिसने अनुभूति और नवगीत की पाठशाला से जुड़कर नवगीत के अंतरराष्ट्रीय विकास की दिशा में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई हो। पुरस्कार में ११,००० भारतीय रुपये, एक स्मृति चिह्न और प्रमाणपत्र प्रदान किये जाते हैं। यह पुरस्कार लखनऊ में नवगीत महोत्सव के वार्षिक आयोजन में वरिष्ठ नवगीतकारों की उपस्थिति में प्रदान किया जाता है।
इस बार दो नवगीतकारों को पुरस्कृत किये जाने का निर्णय लिया गया है-
*
२०१४ के लिये ओमप्रकाश तिवारी को उनके प्रकाशित नवगीत संग्रह ''खिड़कियाँ खोलो'' के लिये, तथा
*
२०१५ के लिये आचार्य संजीव वर्मा सलिल को उनके शीघ्र प्रकाश्य नवगीत संग्रह ''सड़क पर'' के लिये।
*
यह पुरस्कार वर्ष २०११ से प्रारंभ किया गया था। पिछले तीन वर्षों में इससे क्रमशः कल्पना रामानी, अवनीश सिंह चौहान तथा रोहित रूसिया को सम्मानित किया जा चुका है।
हम अभिव्यक्ति परिवार की ओर से इन रचनाकारों का अभिनंदन करते हैं और इनके उज्ज्वल भविष्य की कामना करते हैं।
पूर्णिमा वर्मन
(टीम अभिव्यक्ति की ओर से)
१० अगस्त २०१५
purnima.varman@gmail.com

1 टिप्पणी:

Kavita Rawat ने कहा…

दोनों रचनाकारों को हार्दिक बधाई!