स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

शनिवार, 22 अगस्त 2015

गीता गायन ३

गीता गायन 
अध्याय १ 
पूर्वाभास
कड़ी ३. 
*
अभ्यास सद्गुणों का नित कर 
जीवन मणि-मुक्ता सम शुचि हो 
विश्वासमयी साधना सतत 
कर तप: क्षेत्र जगती-तल हो 
*
हर मन सौंदर्य-उपासक है
हैं सत्य-प्रेम के सब भिक्षुक 
सबमें शिवत्व जगता रहता 
सब स्वर्ग-सुखों के हैं इच्छुक 
*
वे माता वहाँ धन्य होतीं 
होती पृथ्वी वह पुण्यमयी 
होता पवित्र परिवार व्ही 
होती कृतार्थ है वही मही 
*
गोदी में किलक-किलक 
चेतना विहँसती है रहती 
खो स्वयं परम परमात्मा में 
आनंद जलधि में जो बहती 
*
हो भले भिन्न व्याख्या इसकी 
हर युग के नयन उसी पर थे 
जो शक्ति सृष्टि के पूर्व व्याप्त 
उससे मिलने सब आतुर थे 
*
हम नेत्र-रोग से पीड़ित हो 
कब तप:क्षेत्र यह देख सके?
जब तक जीवित वे दोष सभी 
तब तक कैसा कब लेख सके?
*
संसार नया तब लगता है 
संपूर्ण प्रकृति बनती नवीन 
हम आप बदलते जाते हैं 
हो जाते उसमें आप लीन 
*
परमात्मा की इच्छानुसार 
जीवन-नौका जब चलती है 
तब नये कलेवर के मानव 
में, केवल शुचिता पलती है 
*
फिर शोक-मुक्त जग होता है 
मिलता है उसको नया रूप 
बनकर पृथ्वी तब तप:क्षेत्र 
परिवर्तित करती निज स्वरूप 
*
जीवन प्रफुल्ल बन जाता है 
भौतिक समृद्धि जुड़ जाती है 
आत्मिक उत्थान लक्ष्य लेकर 
जब धर्म-शक्ति मुड़ जाती है 
*
है युद्ध मात्र प्रतिशोध बुद्धि 
जिसमें हर क्षण बढ़ता 
दो तत्वों के संघर्षण में 
अविचल विकास क्रम वह गढ़ता 
*
कुत्सित कर्मों का जनक यहाँ
अविवेक भयानकतम दुर्मुख 
जिससे करना संघर्ष, व्यक्ति का
बन जाता है कर्म प्रमुख 
*
कर्मों का गुप्त चित्र अंकित 
हो पल-पल मिटता कभी नहीं 
कर्मों का फल दें चित्रगुप्त 
सब ज्ञात कभी कुछ छिपे नहीं 
*
यह तप:क्षेत्र है कुरुक्षेत्र
जिसमें अनुशासन व्याप्त सकल 
जिसका निर्णायक परमात्मा 
जिसमें है दण्ड-विधान प्रबल 

बन विष्णु सृष्टि का करता है 
निर्माण अनवरत वह पल-पल
शंकर स्वरूप में वह सत्ता
संहार-वृष्टि करता छल-छल 
*
'मैं हूँ, मेरा है, हमीं रहें, 
ये अहंकार के पुत्र व्यक्त 
कल्मष जिसका आधार बना 
है लोभ-स्वार्थ भी पूर्व अव्यक्त 
*
कुत्सित तत्वों से रिक्त-मुक्त 
जस को करना ही अनुशासन 
संपूर्ण विश्व निर्मल करने 
जुट जाएँ प्रगति के सब साधन 
*
कौरव-पांडव दो मूर्तिमंत 
हैं रूप विरोधी गतियों के 
ले प्रथम रसातल जाती है 
दूसरी स्वर्ग को सदियों से 
*
आत्मिक विकास में साधक जो 
पांडव सत्ता वह ऊर्ध्वमुखी 
माया में लिपट विकट उलझी 
कौरव सत्ता है अधोमुखी 
*
जो दनुज भरोसा वे करते 
रथ, अश्वों, शासन, बल, धन का 
पर मानव को विश्वास अटल 
परमेश्वर के अनुशासन का 
*
संघर्ष करें अभिलाषा यह 
मानव को करती है प्रेरित 
दुर्बुद्धि प्रबल लालसा बने 
हो स्वार्थवृत्ति हावी उन्मत 
*
हम नहीं जानते 'हम क्या हैं?
क्या हैं अपने ये स्वजन-मित्र? 
क्या रूप वास्तविक है जग का
क्या मर्म लिये ये प्रकृति-चित्र?
*
अपनी आँखों में मोह लिये 
हम आजीवन चलते रहते 
भौतिक सुख की मृगतृष्णा में 
पल-पल खुद को छलते रहते 
*
जग उठते हममें लोभ-मोह 
हबर जाता मन में स्वार्थ हीन 
संघर्ष भाव अपने मन का 
दुविधा-विषाद बन करे दीन 
*
भौतिक सुख की दुर्दशा देख 
होता विस्मृत उदात्त जीवन 
हो ध्वस्त न जाए वह क्षण में 
हम त्वरित त्यागते संघर्षण 
*
अर्जुन का विषाद 
सुन शंख, तुमुल ध्वनि, चीत्कार 
मनमें विषाद भर जाता है 
हो जाते खड़े रोंगटे तब 
मन विभ्रम में चकराता है 
*
हो जाता शिथिल समूचा तन 
फिर रोम-रोम जलने लगता 
बल-अस्त्र पराये गैर बनकर डँसते 
मन युद्ध-भूमि तजने लगता 
*
जिनका कल्याण साधना ही
अब तक है रहा ध्येय मेरा
संहार उन्हीं का कैसे-कब
दे सके श्रेय मुझको मेरा?
*
यह परंपरागत नैतिकता
यह समाजगत रीति-नीति 
ये स्वजन, मित्र, परिजन सारे 
मिट जाएँगे प्रतीक 
*
हैं शत्रु हमारे मानव ही 
जो पिता-पितामह के स्वरूप 
उनका अपना है ध्येय अलग 
उनकी आशा के विविध रूप 
*
उनके पापों के प्रतिफल में 
हम पाप स्वयं यदि करते हैं 
तो स्वयं लोभ से हो अंधे 
हम मात्र स्वार्थ ही वरते हैं 
*
हम नहीं चाहते मिट जाएँ 
जग के संकल्प और अनुभव 
संतुलन बिगड़ जाने से ही 
मिटते कुलधर्म और वैभव 
*
फिर करुणा, दया, पुण्य जग में 
हो जाएँगे जब अर्थहीन 
जिनका अनुगमन विजय करती 
होकर प्रशस्ति में धर्मलीन 
*
मैं नहीं चाहता युद्ध करूँ 
हो भले राज्य सब लोकों का
अपशकुन अनेक हुए देखो 
है खान युद्ध दुःख-शोकों का 
*
चिंतना हमारी ऐसी ही 
ले डूब शोक में जाती है 
किस हेतु मिला है जन्म हमें 
किस ओर हमें ले जाती है?
*
जीवन पाया है लघु हमने 
लघुतम सुख-दुःख का समय रहा 
है माँग धरा की अति विस्तृत 
सुरसा आकांक्षा रही महा 
*
कितना भी श्रम हम करें यहाँ
अभिलाषाएँ अनेक लेकर 
शत रूप हमें धरना होंगे 
नैया विवेचना की खेकर 
*
सीधा-सदा है सरल मार्ग 
सामान्य बुद्धि यह कहती है 
कर लें व्यवहार नियंत्रित हम 
सर्वत्र शांति ही फलती है 
*
ज्यों-ज्यों धोया कल्मष हमने 
त्यों-त्यों विकीर्ण वह हुआ यहाँ
हम एक पाप धोने आते 
कर पाप अनेकों चले यहाँ 
*
प्राकृतिक कार्य-कारण का जग 
इससे अनभिज्ञ यहाँ जो भी 
मानव-मन उसको भँवर जाल 
कब समझ सका उसको वह भी 
*
है जनक समस्याओं का वह 
उससे ही जटिलतायें प्रसूत 
जानना उसे है अति दुष्कर 
जो जान सका वह है सपूत
*
अधिकांश हमारा विश्लेषण 
होता है अतिशय तर्कहीन 
अधिकांश हमारी आशाएँ 
हैं स्वार्थपूर्ण पर धर्महीन 
*
जो मुक्ति नहीं दे सकती हैं
जीवन की किन्हीं दशाओं में 
जब तक जकड़े हम रहे फँसे 
है सुख मरीचिका जीवन में 
*
लगता जैसे है नहीं कोई 
मेरा अपना इस दुनिया में 
न पिता-पुत्र मेरे अपने 
न भाई-बहिन हैं दुनिया में 
*
उत्पीड़न की कैसी झाँकी 
घन अंधकार उसका नायक
चिंता-संदेह व्याप्त सबमें 
एकाकीपन जिसका गायक 
*
जब भी होता संघर्ष यहाँ 
हम पहुँच किनारे रुक जाते 
साहस का संबल छोड़, थकित 
भ्रम-संशय में हम फँस जाते 
*

कोई टिप्पणी नहीं: