स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

शनिवार, 29 अगस्त 2015

doha salila

दोहा सलिला :

शक्ति रहित शिव शव बने, प्रकृति-पुरुष मिल ईश
बिना लक्ष्मी चाहता, कौन मिले जगदीश
*
अनिल अनल भू नभ सलिल, पंचतत्व मय देह
पंचतत्व में मिल मिले,इससे सदा विदेह
*
धारण करने योग्य जो, शुभ सार्थक वह धर्म 
जाति कुशलता कर्म की, हैं जीवन का मर्म
*
शक्ति न काया मात्र है, शक्ति अनश्वर तत्व 
काया बन-मिटती रहे, शक्ति ईश का सत्व
*

कोई टिप्पणी नहीं: