स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

शनिवार, 29 अगस्त 2015

doha salila

दोहा सलिला:
धारण करने योग्य जो, शुभ सार्थक वह धर्म 
जाति कुशलता कर्म की, हैं जीवन का मर्म
*
सूर्य कान्त सब तिमिर हर, देता रहा प्रकाश
सलिल तभी ज्योतित हुआ, आशा का आकाश
*
भट नागर संघर्ष कर, रच दे मंजुल मूल्य 
चित्र गुप्त तब प्रगट हो, मिलता सत्य अमूल्य
*
निवेदिता निष्ठा रही, प्रार्थी था विश्वास
श्री वास्तव में पा सका, सत शिव जनित प्रयास.
*

कोई टिप्पणी नहीं: