स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

बुधवार, 16 सितंबर 2015

alankar charcha 7 : antyanupras alankar

अलंकार चर्चा : ७  
अन्त्यानुप्रास अलंकार 
जब दो या अधिक शब्दों, वाक्यों या छंद के चरणों के अंत में अंतिम दो स्वरों की मध्य के  व्यंजन सहित आवृत्ति हो तो वहाँ अन्त्यानुप्रास अलंकार होता है. 
छंद के अंतिम चरण में स्वर या व्यंजन की समता को अन्त्यनुप्रास कहा जाता है. इसके कई प्रकार हैं. यथा सर्वान्त्य, समान्तय, विषमान्त्य, समान्त्य-विषमान्त्य तथा सम विषमान्त्य। 
अ. सर्वान्त्य अन्त्यानुप्रास अलंकार:
सभी चरणों में अंतिम वर्ण समान हो तो सर्वान्त्य अन्त्यानुप्रास अलंकार होता है. सामान्यत सवैया में यह अलंकार होता है. 
उदाहरण:
१. धूरि भरे अति सोभित स्यामजू तैसि बनी सिर सुंदर चोटी 
   खेलत खात फिरैं अँगना पग पैजनिया कटि पीरी कछौटी 
   वा छवि को रसखान विलोकत वारत काम कलानिधि कोटी 
   काग के भाग बड़े सजनी हरि हाथ सों लै गयो माखन रोटी   (मत्तगयन्द सवैया, ७ भगण २ गुरु, २३ वर्ण)
२. खेलत फाग सुहाग भरी अनुरागहिं  कौं झरी कै 
   मारत कुंकुम केसरि के पिचकारिन मैं रंग को भरि कै 
   गेरत लाल गुलाल लली मन मोहनि मौज मिटा करि कै 
   जाट चली रसखानि अली मदमत्त मनौ-मन कों हरि कै    (मदिरा सवैया, ७ भगण १ गुरु, २२ वर्ण)
आ. समान्त्य अंत्यानुप्रास अलंकार  
सम चरणों अर्थात दूसरे, चौथे छठवें आदि चरणों में अंतिम वर्णों की समता होने पर  समान्त्य अंत्यानुप्रास अलंकार होता है. दोहा में इसकी उपस्थिति अनिवार्य होती है. 
उदाहरण:
१. जन्म ब्याह राखी तिलक, गृह प्रवेश त्यौहार 
    हर अवसर पर दें 'सलिल', पुस्तक ही उपहार 
२. मेरी भव-बाधा हरो, राधा नागरि सोइ 
   जा तन की झांई परै, श्याम हरित दुति होइ   
इ. विषमान्त्य अन्त्यानुप्रास अलंकार 
विषम अर्थात प्रथम, तृतीय, पंचम आदि चरणों के अंत में वर्णों की समता विषमान्त्य अन्त्यानुप्रास अलंकार दर्शाती है. यह अलंकार सोरठा, मुक्तक आदि में मिलता है. 
उदाहरण:
१. लक्ष्य चूम ले पैर, एक सीध में जो बढ़े
   कोई न करता बैर, बाँस अगर हो हाथ में

२. आसमान कर रहा है इन्तिज़ार
   तुम उड़ो तो हाथ थाम ले बहार 
   हौसलों के साथ रख चलो कदम 
   मंजिलों को जीत लो, मिले निखार
ई. समान्त्य-विषमान्त्य अन्त्यानुप्रास अलंकार
किसी छंद की एक ही पंक्ति के सम तथा विषम दोनों चरणों में अलग-अलग समानता हो तो समान्त्य-विषमान्त्य अन्त्यानुप्रास अलंकार होता है. यह अलंकार किसी-किसी दोहे, सोरठे, मुक्तक तथा चौपाई में हो सकता है.  
उदाहरण :
१. कुंद इंदु सम देह, उमारमण करुणा अयन
    जाहि दीन पर नेह, करहु कृपा मर्दन मयन 
    इस सोरठे में विषम  चरणों के अंत में देह-नेह तथा सम चरणों के अंत में अयन-मयन  में भिन्न-भिन्न अंत्यानुप्रास हैं. 
२. कहीं मूसलाधार है, कहीं न्यून बरसात
दस दिश हाहाकार है, गहराती है रात
इस दोहे में विषम चरणों के अंत में 'मूसलाधार है' व 'हाहाकार है' में तथा सम चरणों के अंत में 'बरसात' व 'रात' में भिन्न-भिन्न अन्त्यानुप्रास है.
३. आँख मिलाकर आँख झुकाते
आँख झुकाकर आँख उठाते
आँख मारकर घायल करते
आँख दिखाकर मौन कराते   

इस मुक्तक में 'मिलाकर', 'झुकाकर', 'मारकर' व दिखाकर' में तथा 'झुकाते', उठाते', 'करते' व 'कराते' में भिन्न-भिन्न अन्त्यानुप्रास है.  
 
उ. सम विषमान्त्य अन्त्यानुप्रास अलंकार

जब छंद के हर दो-दो चरणों के अन्त्यानुप्रास में समानता तथा पंक्तियों के अन्त्यनुप्रास में भिन्नता हो तो वहां सम विषमान्त्य अन्त्यानुप्रास अलंकार होता है.
उदाहरण: 
१. जय गिरिजापति दीनदयाला। सदा करात सन्ततं प्रतिपाला 
   भाल चद्रमा सोहत नीके। कानन कुण्डल नाग फनीके  
यहाँ 'दयाला' व 'प्रतिपाला' तथा 'नीके' व 'फनीके' में पंक्तिवार समानता है पर विविध पंक्तियों में भिन्नता है.
अन्त्यानुप्रास के विविध प्रकारों का प्रयोग चलचित्र 'उत्सव' के एक सरस गीत में दृष्टव्य है:
मन क्यों बहका री बहका, आधी रात को
बेला महका री महका, आधी रात को
किस ने बन्सी बजाई, आधी रात को
जिस ने पलकी चुराई, आधी रात को

झांझर झमके सुन झमके, आधी रात को
उसको टोको ना रोको, रोको ना टोको,                                                                                                                                       
टोको ना रोको, आधी रात को                                                                                                                                                 
लाज लागे री लागे, आधी रात को                                                                                                                                       
देना सिंदूर क्यों सोऊँ आधी रात को

बात कहते बने क्या, आधी रात को
आँख खोलेगी बात, आधी रात को
हम ने पी चाँदनी, आधी रात को
चाँद आँखों में आया, आधी रात को

रात गुनती रहेगी, आधी बात को
आधी बातों की पीर, आधी रात को
बात पूरी हो कैसे, आधी रात को
रात होती शुरू हैं, आधी रात को

गीतकार : वसंत देव, गायक : आशा भोसले - लता मंगेशकर, संगीतकार : लक्ष्मीकांत प्यारेलाल, चित्रपट : उत्सव (१९८४)
इस सरस गीत और उस पर हुआ जीवंत अभिनय अविस्मरणीय है.इस गीत में आनुप्रासिक छटा देखते ही बनती है. झांझर झमके सुन झमके, मन क्यों बहका री बहका, बेला महका री महका, रात गुनती रहेगी आदि में छेकानुप्रास मन मोहता है. इस गीत में अन्त्यानुप्रास का प्रयोग हर पंक्ति में हुआ है
***

1 टिप्पणी:

Rhea Jain ने कहा…

Packers And Movers Delhi prompt moving, relocation and shifting services for people and corporation moving to Delhi and round the India. For Movers Packers Delhi city full target report on supply of revenue and effective Movers And Packers Delhi, contact today 08290173333. We include our network in major cities like Bengaluru, Bangalore, Gurgaon, Hyderabad, Chandigarh, Haridwar, Chennai, Noida, Mumbai, Pune, Jaipur, Lucknow, Patna, Bhopal, Bhubaneswar, Ahmedabad and Kolkata.
http://packers-and-movers-delhi.in/
http://packers-and-movers-delhi.in/packers-and-movers-south-avenue-delhi